NCERT Solutions for Class 10th: Ch 4 भूमंडलीकृत विश्व का बनना

NCERT Solutions for Class 10th: पाठ 4 -  भूमंडलीकृत विश्व का बनना (Bhumandalikrit vishv ka banana) Itihas

पृष्ठ संख्या: 28

संक्षेप में लिखें -

1. सत्रहवीं सदी से पहले होने वाले आदान-प्रदान के दो उदाहरण दीजिए। एक उदाहरण एशिया से और एक उदाहरण अमेरिका महाद्वीपों के बारे में चुने।

उत्तर

सत्रहवीं शताब्दी से पहले किए गए विभिन्न प्रकार के वैश्विक आदान-प्रदान के उदाहरण:

• अमेरिका से उदाहरण: अमेरिका में प्रचुर मात्रा में फसलें, खनिज और कीमती धातुएँ जैसे सोने और चांदी थें। यूरोपीय लोगों ने सोने और चांदी के समृद्ध संसाधनों का उपयोग करके अपनी संपत्ति बढ़ायी।

• एशिया से उदाहरण: चीन ने वस्त्र वस्तुओं और मसालों की बदले में भारत और दक्षिणपूर्व एशिया में मिट्टी के बरतन और रेशम का निर्यात किया।

(अनुच्छेद - 4 और 5, पृष्ठ संख्या 79 | अनुच्छेद -1, पृष्ठ संख्या 78)

2. बताएँ कि पूर्व-आधुनिक विश्व में बीमारियों के वैश्विक प्रसार ने अमेरिकी भूभागों के उपनिवेशीकरण में किस प्रकार मदद दी।

उत्तर

पूर्व-आधुनिक दुनिया में बीमारी के वैश्विक प्रसार ने अमेरिका के उपनिवेशीकरण में मदद की क्योंकि मूल निवासियों के पास यूरोप से आने वाली इन बीमारियों के खिलाफ कोई प्रतिरोध नहीं था। अमेरिका की खोज से पहले, लाखों साल से अमेरिका का दुनिया से कोई संपर्क नहीं था। फलस्वरूप, इस नए स्थान पर चेचक बहुत मारक साबित हुई। एक बार संक्रमण शुरू होने के बाद तो यह बीमारी पूरे महाद्वीप में फैल गई। जहाँ यूरोपीय लोग नहीं पहुँचे थे वहाँ के लोग भी इसकी चपेट में आने लगे। इसने पूरे के पूरे समुदायों को खत्म कर डाला और विजय के लिए मार्ग प्रशस्त किया।

(अनुच्छेद - 4, पृष्ठ संख्या 79 | अनुच्छेद -1, पृष्ठ संख्या 80)

3. निम्नलिखित के प्रभावों की व्याख्या करते हुए संक्षिप्त टिप्पणियाँ लिखें:
(क) कॉर्न लॉ के समाप्त करने के बारे में ब्रिटिश सरकार का फैसला।
(ख) अफ्रीका में रिंडरपेस्ट का आना।
(ग) विश्वयुद्ध के कारण यूरोप में कामकाजी उम्र के पुरुषों की मौत। 
(घ) भारतीय अर्थव्यवस्था पर महामंदी का प्रभाव।
(ङ) बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा अपने उत्पादन को एशियाई देशों में स्थानांतरित करने का फैसला।

उत्तर

(क) ब्रिटिश सरकार द्वारा कॉर्न लॉ को समाप्त किये जाने के फैसले के बाद बहुत कम कीमत पर खाद्य पदार्थों का आयात किया जाने लगा आयातित खाद्य पदार्थों की लागत ब्रिटेन में पैदा होने वाले खाद्य पदार्थों से भी कम थी। फलस्वरूप, ब्रिटिश किसानों की हालत बिगड़ने लगी क्योंकि वे आयातित माल की क़ीमत का मुक़ाबला नहीं कर सकते थे। विशाल भूभागों पर खेती बंद हो गई। हजारों लोग बेरोजगार हो गए। गाँवों से उजड़ कर वे या तो शहरों में या दूसरे देशों में जाने लगे। परोक्ष रूप से इसने वैश्विक कृषि, तेजी से शहरीकरण और औद्योगिक विकास का मार्ग प्रशस्त किया| 

(अनुच्छेद - 6, पृष्ठ संख्या 81)

(ख) रिंडरपेस्ट के अफ्रीका में आने से लोगों की आजीविका और स्थानीय अर्थव्यवस्था पर एक भयावह प्रभाव पड़ा। रिंडरपेस्ट ने अपने रास्ते में आने वाले 90 प्रतिशत मवेशियों को मौत की नींद सुला दिया।जिससे  अफ्रीकियों के रोजी-रोटी के साधन ही खत्म हो गए। वहाँ के बागान मालिकों, खान मालिकों और औपनिवेशिक सरकारों ने बचे-खुचे पशु संसाधनों पर क़ब्ज़े से यूरोपीय उपनिवेशकारों को पूरे अफ्रीका को जीतने व गुलाम बना लेने का बेहतरीन मौका दिया।

(अनुच्छेद -3 और 4, पृष्ठ संख्या 87)

(ग) विश्वयुद्ध के कारण यूरोप में कामकाजी उम्र के पुरुषों की मौत के कारण यूरोप में कामकाज के लायक
लोगों की संख्या बहुत कम रह गई। मर्द मोर्चे पर जाने लगे तो उन कामों को सँभालने के लिए घर की औरतों को बाहर आना पड़ा जिन्हें अब तक केवल मर्दो का ही काम माना जाता था।

(अनुच्छेद - 5 और 6, पृष्ठ संख्या 92| अनुच्छेद - 1, पृष्ठ संख्या 93)

(घ) महामंदी ने भारतीय व्यापार को फ़ौरन प्रभावित किया| 1928 से 1934 के बीच देश के आयात-निर्यात घट कर लगभग आधे रह गए थे। जब अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमतें गिरने लगीं तो यहाँ भी कीमतें नीचे आ गईं। 1928 से 1934 के बीच भारत में गेहूं की कीमत 50 प्रतिशत गिर गई। शहरी निवासियों के मुक़ाबले किसानों और काश्तकारों को ज्यादा नुक़सान हुआ।  पूरे देश में काश्तकार पहले से भी ज्यादा क़र्ज में डूब गए। खर्च पूरे करने के चक्कर में उनकी बचत खत्म हो चुकी थी, जमीन सूदखोरों के पास गिरवी पड़ी थी, घर में | जो भी गहने-जेवर थे बिक चुके थे। मंदी के इन्हीं सालों में भारत कीमती धातुओं, खासतौर से सोने का निर्यात करने लगा।

(अनुच्छेद - 2, 4 और 5, पृष्ठ संख्या 97)

(ङ) उद्योगों को कम वेतन वाले देशों में ले जाने से वैश्विक व्यापार और पूँजी प्रवाहों पर भी असर पड़ा। पिछले दो दशक में भारत, चीन और ब्राज़ील आदि देशों की अर्थव्यवस्थाओं में आए भारी बदलावों के कारण दुनिया का आर्थिक भूगोल पूरी तरह बदल चुका है।

(अनुच्छेद - 6, पृष्ठ संख्या 101)

4. खाद्य उपलब्धता पर तकनीक के प्रभाव को दर्शाने के लिए इतिहास से दो उदाहरण दें। 

उत्तर

खाद्य उपलब्धता पर तकनीक के प्रभाव को दर्शाने के लिए इतिहास से दो उदाहरण:

• तेज़ चलने वाली रेलगाड़ियाँ बनीं, बोगियों का भार कम किया गया, जलपोतों का आकार बढ़ा जिससे किसी भी उत्पाद को खेतों से दूर-दूर के बाजारों में कम लागत पर और ज्यादा आसानी से पहुँचाया जा सके।

• पानी के जहाजों में रेफ्रिजरेशन की तकनीक स्थापित कर दी गई जिससे जल्दी खराब होने वाली चीजों को भी लंबी यात्राओं पर ले जाया जा सकता था।

(अनुच्छेद - 4, पृष्ठ संख्या 83)

5. ब्रेटन वुड्स समझौते का क्या अर्थ है?

उत्तर

ब्रेटन वुड्स समझौते पर जुलाई 1944 में अमेरिका स्थित न्यू हैम्पशर में ब्रेटन वुड्स में विश्व शक्तियों के बीच हस्ताक्षर किए गए थे। इसने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की स्थापना बाहरी अधिशेषों और अपने सदस्य देशों के घाटे से निपटने के लिए की और अंतर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक की स्थापना युद्धोत्तर पुनर्निर्माण के लिए पैसे का इंतजाम करने के लिए की गई थी।

(अनुच्छेद -3 और 4, पृष्ठ संख्या 99)

चर्चा करें -

6. कल्पना कीजिए की आप कैरीबियाई क्षेत्र में काम करने वाले गिरमिटिया मज़दूर हैं। इस अध्याय में दिए गए विवरणों के आधार पर अपने हालात और अपनी भावनाओं का वर्णन करते हुए अपने परिवार के नाम एक पत्र लिखें।

उत्तर

सम्मानित परिवार,

मुझे आशा है कि आप सभी ठीक हैं। मुझे एक अनुबंध के तहत उपनिवेशवादियों ने किराए पर लिया है जिसमें कहा गया है कि मैं बागानों में पांच साल तक काम करने के बाद भारत लौट सकता हूं। हालांकि, अनुबंध एक धोखाधड़ी थी और ये मुझे वापस जाने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। गरीबी और उत्पीड़न से बचने की उम्मीद में मैं इस नौकरी में शामिल हुआ था लेकिन यहाँ जीवन और काम की स्थिति बहुत कठोर है। यहाँ अधिकांश श्रमिक बिहार, मध्य भारत और तमिलनाडु के सूखे इलाकों से संबंधित हैं। हमें कुछ कानूनी अधिकार दिए गए हैं। हालांकि, हमने अभिव्यक्ति के लिए नए कला विकसित किए हैं।

आपका प्यार,

एबीसी


(विषय -भारत से अनुबंधित श्रमिकों का जाना, पृष्ठ संख्या - 87 और 88)

7. अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक विनिमयों में तीन तरह की गतियों या प्रवाहों की व्याख्या करें। तीनों प्रकार की गतियों के भारत और भारतीयों से संबंधित एक-एक उदाहरण दें और उनके बारे में संक्षेप में लिखें। 

उत्तर

अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक विनिमयों में तीन तरह की गतियों या प्रवाहों की व्याख्या -

(i) व्यापार का प्रवाह: कपड़े या गेहूं जैसे सामानों में व्यापार। 
(ii) श्रम का प्रवाह: मतलब लोगों की काम की तलाश में नए क्षेत्रों में प्रवासन। 
(iii) पूंजी प्रवाह: अन्य देशों से और अल्पकालिक ऋण और दीर्घकालिक ऋण।

(i) भारत प्राचीन काल से व्यापार संबंधों में शामिल था। इसने यूरोप से सोने और चांदी के बदले कपड़ा और मसालों का निर्यात किया।

(ii) उन्नीसवीं शताब्दी में सैकड़ों हजार मजदूर बागानों, खानों और दुनिया भर में सड़क और रेलवे निर्माण परियोजनाओं पर काम करने गए।

(iii) भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान, कई यूरोपीय लोगों ने भारत में अपनी कारखानों की स्थापना की। इसके अलावा, कई भारतीय व्यापारियों ने यूरोपीय उपनिवेशों के बाहर उद्यम किया और उन्होंने दुनिया भर में व्यस्त बंदरगाहों पर समृद्ध एम्पोरिया खोले|

(अनुच्छेद -2, पृष्ठ संख्या 81)

8. महामंदी के कारणों की व्याख्या करें। 

उत्तर

महामंदी कई कारकों का परिणाम था -

• 1920 के दशक में आवास एवं निर्माण क्षेत्र में आए उछाल से अमेरिकी संपन्नता का आधार पैदा हो चुका था| अधिक निवेश और अधिक रोजगार ने अटकलों की प्रवृत्तियों को जन्म दिया जो 1929 के मध्य तक 1929 की महान अवसाद को जन्म दे रहा था।
• शेयर बाजार 1929 में नीचे गिरा जिससे निवेशकों और जमाकर्ताओं के बीच आतंक पैदा हुआ इसलिए उन्होंने निवेश और जमा करना बंद कर दिया। नतीजतन, मूल्यह्रास का एक चक्र बन गया।
• बैंकों की विफलता: जब लोगों ने अपनी सभी संपत्ति वापस ले ली कुछ बैंक बंद हो गए। कुछ बैंकों ने डॉलर के गिरते मूल्य के बावजूद उसी डॉलर की दर से ऋण वसूला। पूर्व युद्ध मूल्य पर पाउंड के मूल्य में नीति में ब्रिटिश परिवर्तन से यह और बदतर हो गया।

(अनुच्छेद - 6 और 7, पृष्ठ संख्या 95 | अनुच्छेद -1 और 2, पृष्ठ संख्या 96)

9. जी-77 देशों से आप क्या समझते हैं। जी-77 को किस आधार पर ब्रेटन वुड्स की जुड़वाँ संतानों की प्रतिक्रिया कहा जा सकता है। व्याख्या करें।

उत्तर

जी -77 देश विकासशील देशों का एक समूह है जिसने एक नए अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक प्रणाली (NIEO) के लिए आवाज़ उठाई| एन.आई.ई.ओ. से उनका आशय एक ऐसी व्यवस्था से था जिसमें उन्हें अपने संसाधनों पर सही मायनों में नियंत्रण मिल सके, जिसमें उन्हें विकास के लिए अधिक सहायता मिले, कच्चे माल के सही दाम मिलें, और अपने तैयार मालों को विकसित देशों के बाजारों में बेचने के लिए बेहतर पहुँच मिले।

ब्रेटन वुड्स जुड़वां यानी अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक विकसित देशों द्वारा स्थापित किया गया था। इन संस्थानों में निर्णय लेने की शक्ति पश्चिमी औद्योगिक शक्तियों और संयुक्त राज्य अमेरिका के हाथों में थी। इन संस्थानों को औद्योगिक देशों की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए स्थापित किया गया था और पूर्व औपनिवेशिक देशों और विकासशील देशों में गरीबी और विकास की कमी से कोई लेना देना नहीं था। विकासशील देशों की जरूरतों को पूरा करने के लिए जी -77 बनाया गया था। इसलिए, जी -77 को ब्रेटन वुड्स जुड़वां की गतिविधियों के प्रति प्रतिक्रिया के रूप में कहा जा सकता है

(अनुच्छेद - 6, पृष्ठ संख्या 100)

Class 10th History NCERT Solutions in Hindi

Which sports has maximum age fraud in India to watch at Powersportz.tv
Facebook Comments
0 Comments
© 2017 Study Rankers is a registered trademark.