पथिक - पठन सामग्री और सार NCERT Class 11th Hindi

पठन सामग्री, अतिरिक्त प्रश्न और उत्तर और सार - पाठ 13 - पथिक (Pathik) आरोह भाग - 1 NCERT Class 11th Hindi Notes

सारांश

प्रस्तुत अंश पथिक शीर्षक खंड काव्य के पहले सर्ग से लिया गया है| इस दुनिया के दुखों से विरक्त काव्य नायक पथिक प्रकृति के सौंदर्य पर मुग्ध होकर वहीँ बसना चाहता है| सागर के किनारे खड़ा पथिक उसके सौंदर्य पर मुग्ध है| प्रकृति के इस अद्भुत् सौन्दर्य को वह मधुर मनोहर उज्ज्वल प्रेम कहानी की तरह पाना चाहता है|

कवि प्रकृति का मानवीकरण करते हुए कहते हैं कि आकाश में बादल रंग-बिरंगे वेश धारण करके सूर्य के सामने नर्तकी की तरह थिरकते हुए प्रतीत होते हैं| कवि का मन इन्हीं बादलों के बीच बैठकर प्रकृति का आनंद लेने का कर रहा है जिसके ऊपर नीला मनोरम आकाश है और नीचे विशाल समुद्र है| जहाँ एक ओर समुद्र का गर्जन कवि के मन में साहस पैदा करता है वहीं दूसरी ओर मलयगिरी से निकलती सुगन्धित हवाएँ मन को मोहित करती हैं| कवि का मन इस विशाल समुद्र की लहरों में हिलोरें मारने का करता है| सूर्योदय के समय समुद्र तल से निकलता सूर्य का प्रतिबिंब समुद्र को अपनी आभा से चमका रहा है| कवि ने इसकी तुलना लक्ष्मी के स्वर्ण मंदिर के कँगूरा से की है| समुद्र तल को देखकर ऐसा प्रतीत होता है मानो समुद्र ने लक्ष्मी के आगमन की तैयारी में स्वर्ण सड़क तैयार कर दी है| समुद्र निर्भय, दृढ़, और गंभीर भाव से गरज रहा है और उसमें उठती लहरें सुंदर लग रही हैं| कवि कहते हैं कि संसार में इससे बढ़कर और कोई सुख नहीं है और अपनी प्रेयसी से इसका आनंद लेने के लिए कहता है|

कवि अर्द्धरात्रि का वर्णन करते हैं कि अँधेरा होते ही आकाश में तारों की चमक बिखर जाती है| ऐसा लगता है कि जगत का स्वामी चुपके से मुस्कुराता हुआ धीमी गति से आता है और आकाशगंगा के किनारे खड़ा होकर मधुर गीत गा रहा है| प्रकृति के इस सौंदर्य पर मुग्ध होकर चंद्रमा भी हँसता हुआ प्रतीत होता है| वृक्ष पत्तियों और फूलों से सजे हुए प्रतीत होते हैं| पक्षियों की चहचहाहट से उनकी प्रसन्नता जाहिर होती है और फूलों की खुशबू सुख की अनुभूति कराते हैं| मेघ वनों, उपवनों, पर्वतों और कुंजों पर बरसकर अपनी प्रसन्नता प्रकट करते हुए प्रतीत होते हैं| प्रकृति के इस मनोरम दशा को देखकर कवि के आँखों से भी अश्रुधारा बहने लगती है| कवि इस मधुर प्रेम कहानी को अपने शब्दों में लिखकर अपनी प्रेमिका से पढ़ने के लिए कहते हैं| कवि के अनुसार प्रकृति की यह मनोहर उज्ज्वल प्रेम कहानी मन को सुख और शांति का अनुभव कराती है| कवि अपने शब्दों में काव्य रचना कर विश्व को प्रकृति की इस सुंदरता से परिचित कराना चाहता है|

कवि-परिचय

पथिक

जन्म- सन् 1881, कोइरीपुर, जिला जौनपुर (उ.प्र.) में |

रचनाएँ- मिलन, पथिक, स्वप्न (खंड काव्य) मानसी (फुटकर कविता संग्रह)|

मृत्यु- सन् 1962 में|

राम नरेश त्रिपाठी छायावाद पूर्व की खड़ी बोली के महत्वपूर्ण कवि माने जाते हैं| आरंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद स्वाध्याय से हिंदी, अंग्रेजी, बांग्ला और उर्दू का ज्ञान प्राप्त किया| उनकी कविताओं में देशप्रेम और वैयक्तिक प्रेम दोनों मौजूद हैं, लेकिन देशप्रेम को ही विशेष स्थान दिया गया है| हिंदी में वे बाल साहित्य के जनक माने जाते हैं| उन्होंने कई वर्षों तक ‘बानर’ नामक बाल पत्रिका का संपादन किया, जिसमें मौलिक एवं शिक्षाप्रद कहानियाँ, प्रेरक प्रसंग आदि प्रकाशित होते थे| कविता के अलावा उन्होंने नाटक, उपन्यास, संस्मरण आदि अन्य विधाओं में भी रचनाएँ कीं|

कठिन शब्दों के अर्थ

• वारिद-माला- गिरती हुई वर्षा की लड़ियाँ
• रत्नाकर- सागर
• मलयानिल- मलय पर्वत (जहाँ चंदन वन है) से आने वाली शीतल, सुगंधित हवा
• कँगूरा- गुंबद, बुर्ज़
• असवारी- सवारी
• अंतरिक्ष- आकाश, धरती और आकाश के बीच की खुली जगह
• सानु- समतल भूमि
• आत्म-प्रलय- स्वयं को भूल जाना
• विश्व-विमोहनहारी- संसार को मुग्ध करने वाली

NCERT Solutions of पाठ 13 - पथिक

GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo