रजनी - पठन सामग्री और सार NCERT Class 11th Hindi

पठन सामग्री, अतिरिक्त प्रश्न और उत्तर और सार - पाठ 7 -  रजनी (Rajni) आरोह भाग - 1 NCERT Class 11th Hindi Notes

सारांश

‘रजनी’ मन्नू भंडारी जी द्वारा लिखित एक पटकथा है, जो पिछली सदी के नवें दशक का एक बहुचर्चित टी.वी. धारावाहिक रहा है| बासु चटर्जी के निर्देशन में में बने इस धारावाहिक की हर कड़ी अपने में स्वतंत्र और मुकम्मल होती थी और उन्हें आपस में गूँथनेवाली सूत्र रजनी थी| हर कड़ी में यह जुझारू और इन्साफ-पसंद स्त्री-पात्र किसी-न-किसी सामाजिक-राजनीतिक समस्या से जूझती नजर आती थी| प्रस्तुत अंश भी व्यवसाय बनती शिक्षा की समस्या की ओर हमारा ध्यान खींचता है|

पटकथा की शुरुआत लीला के घर से होती है, जो रजनी की पड़ोसन है| रजनी लीला से बाजार साथ चले को कहती है, लेकिन लीला उसे यह कहकर रोक लेती है कि उसके बेटे का रिजल्ट आने वाला है| रजनी यह सुनकर बहुत खुश होती है क्योंकि उसे पूरा विश्वास है कि परीक्षा में अमित के अच्छे अंक आएँगे| लेकिन जब अमित घर आता है तो सबको पता चला कि अमित को गणित में सिर्फ 72 अंक मिले थे| अमित ने अध्यापक के बार-बार कहने पर भी ट्यूशन नहीं ली जिसके कारण उसे कम अंक मिले थे| रजनी ने इस बात की शिकायत स्कूल के हैडमास्टर से की, लेकिन उन्होंने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया और इसमें स्कूल की कोई जिम्मेदारी न बताकर इसे अध्यापक और छात्र के बीच का आपसी मामला कहकर टाल दिया| रजनी के पति को यह बात पता चली तो वह रजनी को इस मामले में न पड़ने की सलाह देता है| लेकिन रजनी किसी की नहीं सुनती|

रजनी ने इस बात की शिकायत स्कूल के शिक्षा निदेशक से की| वहाँ भी उसकी बात कोई नहीं सुनता| शिक्षा निदेशक ने रजनी से इस बात की शिकायत स्कूल के हैडमास्टर से करने की सलाह दी| इस प्रकार, वे भी इसके विरूद्ध कोई कारवाई नहीं की| आखिरकार रजनी इस समस्या को लेकर अखबार के संपादक से मिली, जहाँ उसे थोड़ी उम्मीद नजर आई| अखबारवालों के सहयोग से उसने अभिभावकों की एक मीटिंग का आयोजन किया| वहाँ उसने प्रस्ताव दिया कि अध्यापकों द्वारा जबरदस्ती ट्यूशन लिए जाने से संबंधित सख्त-से-सख्त नियम बनाए जाने चाहिए| ट्यूशन न लिए जाने पर बच्चों के अंक काटने पर अध्यापकों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी| बोर्ड रजनी के इस प्रस्ताव को मान लेता है| इस प्रकार, रजनी ने जिस उद्देश्य के साथ यह आंदोलन शुरू किया था, उसमें सफल होती है|

कथाकार-परिचय

मन्नू भंडारी

जन्म- लेखिका मन्नू भंडारी का जन्म सन् 1931, भानपुरा (उत्तर प्रदेश) में हुआ|

प्रमुख रचनाएं- उनकी प्रमुख रचनाएँ एक प्लेट सैलाब, मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है, त्रिशंकु, आँखों देखा झूठ (कहानी संग्रह); आपका बंटी, महाभोज, स्वामी, एक इंच मुस्कान (राजेन्द्र यादव के साथ) (उपन्यास) तथा पटकथाएँ रजनी, निर्मला, स्वामी, दर्पण हैं|

उन्हें हिंदी अकादमी दिल्ली का शिखर सम्मान, बिहार सरकार, भारतीय भाषा परिषद् कोलकाता, राजस्थान संगीत नाटक अकादमी, और उत्तर प्रदेश हिंदी संसथान द्वारा पुरस्कृत किया गया है|

मन्नू भंडारी हिंदी कहानी में उस समय सक्रिय हुईं जब नई कहानी आंदोलन अपने उठान पर था| नई कहानी आंदोलन (छठा दशक) में जो नया मोड़ आया उसमें मन्नू जी का विलय योगदान रहा| उनकी कहानियों में कहाँ पारिवारिक जीवन, कहाँ नारी-जीवन और कहाँ समाज के विभिन्न वर्ण के जीवन की विसंगतियाँ विशेष आत्मीय अंदाज में अभिव्यक्त हुई हैं| उन्होंने आक्रोश, व्यंग्य और संवेदना को मनोवैज्ञानिक रचनात्मक आधार दिया है- वह चाहे कहानी हो, उपन्यास हो या फिर पटकथा ही क्यों न हो|

कठिन शब्दों के अर्थ

• कांग्रेचुलेशंस - बघाई हो, मुबारक हो
• हाफ़-ईयरली- छमाही, अर्द्धवार्षिक
• बेगुनाह- जिसका कोई गुनाह न हो, निर्दोष
• हिकारत - उपेक्षा
• डायरेक्टर आँफ़ एजुकेशन- शिक्षा निदेशक
• रिकगनाइज़- मान्य
• रिसर्च प्रोजेक्ट- शोध परियोजना
• कंडक्ट- संचालन
• सुनतीच नई- सुनती ही नहीं
• दखलअंदाजी- हस्तक्षेप
• पैरेंट- अभिभावक
• इंपोर्टेंट मैटर्स- महत्वपूर्ण विषय
• बाकायदा- कायदे के अनुसार
• इश्यू- मुद्दा
• फ़ोकस करना- ध्यान में लाना
• एप्रूव्ड - स्वीकृत
• मोंटाज - दृश्य मीडिया (टेलीविज़न में) में जब अलग दृश्यों या छवियों को एक साथ इकट्ठा कर उसे संयोजित किया जस्ता है तो उसे मोंटाज कहते हैं|


GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo