स्पीति में बारिश - पठन सामग्री और सार NCERT Class 11th Hindi

पठन सामग्री, अतिरिक्त प्रश्न और उत्तर और सार - पाठ 6 - स्पीति में बारिश (Spiti me Baarish) आरोह भाग - 1 NCERT Class 11th Hindi Notes

सारांश

स्पीति में बारिश पाठ एक यात्रा-वृत्तान्त है| स्पीति, हिमाचल के मध्य में स्थित है| यह स्थान अपनी भौगलिक एवं प्राकृतिक विशेषताओं के कारण अन्य पर्वतीय स्थलों से भिन्न हैं| लेखक ने इस पाठ में स्पीति की जनसंख्या, ऋतु, फसल, जलवायु तथा भूगोल का वर्णन किया है जो परस्पर एक- दूसरे से संबधित है| पाठ में दुर्गम क्षेत्र स्पीति में रहने वाले लोगों के कठिनाई भरे जीवन का भी वर्णन किया गया है|

स्पीति हिमाचल प्रदेश के लाहुल-स्पीति जिले की तहसील है| उल्लेखनीय घटनाओं तथा मानवीय गतिविधियों के अभाव के कारण इसका इतिहास में कोई जिक्र नहीं किया गया है| यहाँ के ऊँचे-ऊँचे दर्रे तथा कठिन रास्ते पर्यटकों को आकर्षित करने में असमर्थ हैं| यहाँ संचार तथा परिवहन के आधुनिक सुविधाओं का अभी तक विकास नहीं हुआ है| यहाँ के लोग शेष दुनिया से कटे हुए हैं|

स्पीति की भौगोलिक स्थिति कुछ इस प्रकार है कि प्राचीन काल से लेकर मध्यकाल में ब्रिटिश शासन तक यह स्वतंत्र रही है| स्पीति में जनसंख्या लाहुल से भी कम है| यहाँ की जनसंख्या प्रति वर्गमील चार से भी कम है| अंग्रेजों के शासन काल में स्पीति का शासन एक नोनो द्वारा चलाया जाता था| नोनो वहाँ के स्थानीय शासक को कहा जाता था| इसका अधिकार-क्षेत्र केवल द्वितीय दर्जे के मजिस्ट्रेट के बराबर था, लेकिन स्पीति के लोग इसे ही अपना राजा मानते थे| राजा के न होने पर वे दमयंती जी को रानी मानते हैं| 1873 में पास हुए स्पीति रेगुलेशन के तहत लाहुल और स्पीति को विशेष दर्जा दिया गया| ब्रिटिश भारत के अन्य कानून यहाँ नहीं लागू होते थे| रेगुलेशन के अधीन प्रशासन के अधिकार नोनो को दिए गए जिसमें मालगुजारी इकट्ठा करना और छोटे-छोटे फौजदारी के मुकदमों का फैसला करना भी शामिल था| उसके उपर के मामले वह कमिश्नर के पास भेज देता था| 

स्पीति 31.42 और 31.59 अक्षांश उत्तर और 77.26 और 78.42 पूर्व देशांतर के बीच स्थित है| यह चारों और से ऊँचे-ऊँचे पहाड़ों का कैदी है| इन पहाड़ों की औसत ऊँचाई 18,1100 फीट है| यह पहाड़ उसे पूरब में तिब्बत, पश्चिम में लाहुल है, दक्षिण में किन्नौर और उत्तर में लद्दाख से अलग करते हैं| इसकी मुख्य घाटी इसी नाम की स्पीति नदी की घाटी है| स्पीति पश्चिम हिमालय में लगभग 16,1100 फीट को ऊँचाई से निकल कर पूरब में तिब्बत में जाती है, वहाँ से स्पीति में आती है| 

स्पीति में आठ-नौ महीने बर्फ पड़ती रहती है जिसके कारण यहाँ के लोग शेष दुनिया से कटे हुए रहते हैं| अधिक ऊँचाई वाले चोटियों से घिरे रहने के कारण मानसून यहाँ नहीं पहुँचता, जिससे वर्षा न के बराबर होती है| यहाँ मुख्यतः दो ऋतुएँ होती हैं; वसंत तथा शीत ऋतु| वसंत ऋतु कम दिनों का होता है| इस ऋतु में न तो यहाँ फूल खिलते हैं और न ही हरियाली आती है| दिसंबर से मई तक यहाँ ठंड का मौसम होता है| इस समय यहाँ के नदी-नाले सब जम जाते हैं और हवाएँ तेज चलती हैं| लकड़ी की कमी के कारण घर को गरम रख पाना मुश्किल होता है| साल में एक ही फसल की खेती होती है| जौ, गेहूँ, मटर तथा सरसों यहाँ उपजाई जाने वाली मुख्य फसलें हैं| वर्षा की कमी के कारण फल नहीं उगाये जाते|

स्पीति में माने श्रेणी की ऊँचाई 21,646 फीट बताई गई है| इन श्रेणियों में बौद्ध लामा मंत्रों का जाप किया करते हैं| यह तो इस श्रेणी की किसी चोटी की ऊँचाई होगी| पूरी श्रेणी की ऊँचाई तो एक नहीं होगी| इसमें जो छोटी-छोटी चोटियाँ हैं, उनकी ऊँचाई भी 17,000 फीट से अधिक है| कई गाँव समुद्र की सतह से 13,000 फीट से ऊँचे बसे हैं| एक या दो 14,000 फीट की ऊँचाई पर है| यह मध्य हिमालय है, जहाँ स्पीति स्थित है| इन श्रेणियों में बौद्ध लामा मंत्रों का जाप किया करते थे|

इस प्रकार, स्पीति में बारिश का होना सुखद संयोग माना जाता है| लेखक के यात्रा के दौरान भी एक दिन संयोग से वर्षा होती है तथा वहाँ के निवासी उनकी यात्रा को शुभ मानते हैं| बहुत दिनों के बाद स्पीति में बारिश हुई थी|

कथाकार-परिचय

कृष्णनाथ

जन्म: सन् 1934, वाराणसी 

प्रमुख रचनाएँ: लद्दाख में राग-विराग, किन्नर धर्मलोक, स्पीति में बारिश, पृथ्वी-परिक्रमा, हिमाचल यात्रा, अरुणाचल यात्रा, बौद्ध निबंधावली 

इन्होनें हिंदी और अंग्रेजी में कई पुस्तकों का भी संपादन किया है| इन्हें लोहिया सम्मान प्रदान किया गया है|  कृष्णनाध के व्यक्तित्व के कई पहलू हैं| काशी हिंदू विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एम. ए. के बाद उनका झुकाव समाजवादी आन्दोलन और बौद्ध-दर्शन की ओर हो गया| बौद्ध-दर्शन में उनकी गहरी पैठ है| वे अर्थशास्त्र के विद्वान हैं और काशी विद्यापीठ में इसी विषय के प्रोफेसर भी रहे| अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं पर उनका अधिकार है और दोनों की पत्रकारिता से भी उनका जुड़ाव रहा| हिंदी की साहित्यिक पत्रिका ‘कल्पना’ के संपादक मंडल में वे कई साल रहे और अंग्रेजी के ‘मैनकाइंड’ का कुछ वर्षों तक संपादन भी किया| राजनीति, पत्रकारिता और अध्यापन की प्रक्रिया से गुजरते-गुजरते वे बौद्ध-दर्शन की आंर मुड़े| भारतीय और तिब्बती आचार्यों के साथ बैठकर उन्होंने नागार्जुन के दर्शन और वज्रयानी परंपरा का अध्ययन शुरू किया| बौद्ध-दर्शन पर कृष्णनाथ जी ने काफी कुछ लिखा है| 

उन्होंने हिमालय की यात्रा शुरु की और उन स्थानों को खोजना और खंगालना शुरू किया जो बौद्ध-धर्म और भारतीय मिथकों से जुड़े हैं| फिर जब उन्होंने इस यात्रा को शब्दों में बाँधना शुरू किया तो यात्रा-वृत्तांत जैसी विधा अनूठी विलक्षणता से भर गईं| कृष्णनाथ जहाँ की यात्रा करते हैं वहाँ वे सिर्फ पर्यटक नहीं होते बल्कि एक तत्ववेत्ता की तरह वहाँ का अध्ययन करते चलते हैं| पर वे शुष्क अध्ययन नहीं करते बल्कि उस स्थान विशेष से जुड़ी स्मृतियों को उघाड़ते हैं|

कृष्णनाथ के यात्रा-वृत्तांत स्थान विशेष से जुड़े होकर भी भाषा, इतिहास, पुराण का संसार समेटे हुए हैं| पाठक उनके साथ खुद यात्रा करने लगता है| वे लोग, जो इन स्थानों की यात्रा कर चुके होते हैं, वे भी अगर कृष्णनाथ के यात्रा-वृत्तांत को पढ़ेंगे तो उन्हें कुछ नया लगेगा| उन्हें महसूस होगा कि उनकी पुरानी यात्रा अधूरी थी और कृष्णनाथ के यात्रा-वृत्तांत को पढ़कर वह पूरी हुई|

कठिन शब्दों के अर्थ

• अलंध्य- जिसे लाँघा या पार न किया जा सके।
• स्वायत- स्वतंत्र
• अतर्क्य- तर्क न करने योग्य
• आर्तनाद- दर्द भरी ऊँची आवाज़, स्वर में दुख का ज्ञापन या सहायता की पुकार
• पीरपंचाल- एक पर्वत श्रृंखला
• महात्स्य- महिमा, गौरव
• कूवत (फ़ा. कूव्वत)- बल, शक्ति
• षड्ऋतुएँ- छह ऋतुएँ (वसंत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद. शिशिर, हेमन्त)
• तुषार- हिम, बरफ
• दुंगछेन- एक तरह का वाद्ययंत्र, महाशंख जिसे फूँक मारकर बजाया जाता है|

NCERT Solutions of पाठ 6 - स्पीति में बारिश

GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo