आत्मा का ताप - पठन सामग्री और सार NCERT Class 11th Hindi

पठन सामग्री, अतिरिक्त प्रश्न और उत्तर और सार - पाठ 10 - आत्मा का ताप (Aatma ka Taap) आरोह भाग - 1 NCERT Class 11th Hindi Notes

सारांश

प्रस्तुत पाठ ‘आत्मा का ताप’ सैयद हैदर रज़ा की आत्मकथात्मक पुस्तक का एक अध्याय है| इसका अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद मधु बी.जोशी ने किया है| यहाँ रज़ा ने चित्रकला के क्षेत्र में अपने आरंभिक संघर्षों और सफलताओं के बारे में बताया है| एक कलाकार का जीवन-संघर्ष और कला-संघर्ष, उसकी सर्जनात्मक बेचैनी, अपनी रचना में सर्वस्व झोंक देने का उसका जुनून- ये सारी चीजें इसमें बहुत रोचक व सहज शैली में उभरकर आई हैं|

एस.एच.रज़ा शुरू से ही पढ़ने में तेज थे| नागपुर स्कूल में उन्होंने प्रथम स्थान प्राप्त किया| पिता के रिटायर होने के बाद उन्होंने नौकरी ढूंढ़ना शुरू किया| गोंदिया में ड्राइंग के अध्यापक बनने के बाद उन्हें बंबई में जे.जे.स्कूल ऑफ़ आर्ट में अध्ययन के लिए सरकारी छात्रवृत्ति मिली| लेकिन देरी होने के कारण उनका दाखिला नहीं हो सका और छात्रवृत्ति वापस ले ली गई| लेकिन वे वापस नहीं लौटे और मुंबई में ही रहकर अध्ययन करने का निश्चय किया| उन्हें मुंबई का वातावरण पसंद आया| वहाँ उन्हें एक्सप्रेस ब्लॉक स्टूडियो में डिजाइनर की नौकरी मिल गई| सुबह दस से शाम छह बजे तक काम करने के बाद वे एक परिचित टैक्सी ड्राईवर के यहाँ सोने जाते थे| वहाँ वे ग्यारह-बारह बजे रात तक गलियों के चित्र या स्केच बनाते थे| कठिन परिश्रम के बाद आखिरकार उन्हें बॉम्बे आर्ट्स सोसाइटी का स्वर्ण पदक प्राप्त हुआ| वे इस सम्मान को पाने वाले सबसे कम आयु के कलाकार थे| इसके दो वर्ष के बाद उन्हें फ़्रांस सरकार की छात्रवृत्ति मिल गई| उनके पहले दो चित्र नवंबर 1943 में आर्ट्स सोसाइटी ऑफ़ इंडिया की प्रदर्शनी में प्रदर्शित हुए| इस प्रदर्शनी में इनके दोनों चित्र 40-40 रूपये में बिक गए| वेनिस अकादमी के प्रोफेसर लैंगहैमर ने उनके चित्रों को खरीदना शुरू किया और इससे उनके कला के अध्ययन में जुट पाना आसान हो गया| 1947 में वे जे.जे. स्कूल ऑफ़ आर्ट के नियमित छात्र बन गए|

सन् 1947 में उनकी माँ और फिर 1948 में पिता के देहांत के बाद उन पर परिवार की जिम्मेदारियों का बोझ आ गया| 25 वर्ष की आयु में ही उन्हें इन क्रूर अनुभवों से गुजरना पड़ा, लेकिन उन्होंने सामर्थ्य भर काम करके अपनी जिम्मेदारी अच्छे से निभाई| 1948 में ही श्रीनगर की यात्रा के दौरान उनकी भेंट प्रख्यात फ्रेंच फोटोग्राफर हेनरी कार्तिए-ब्रेसाँ से हुई| उन्होंने रज़ा को पेंटिंग के असली मायने समझाए| रज़ा की फ्रेंच पेंटिंग में खास रुचि थी, इसलिए उन्होंने पेरिस जाने का निश्चय किया| फ़्रांस सरकार से दो वर्ष की छात्रवृत्ति मिलने के बाद वे 2 अक्टूबर 1950 को मर्सोई पहुँचे और इस प्रकार उनके कला जीवन का प्रारंभ हुआ| इस प्रकार अनेक संघर्षों से गुजरने के बाद एस.एच.रज़ा को सफलता प्राप्त हुई|

कथाकार-परिचय

सैयद हैदर रज़ा

जन्म- सन् 1922, बाबरिया गाँव (उ.प्र.) में|

सम्मान- इन्हें ‘ग्रेड ऑव ऑफिसर ऑव द ऑर्डर ऑव आर्ट्स ऐंड लेटर्स’ सम्मान से नवाजा गया है|

रज़ा ने चित्रकला की शिक्षा नागपुर स्कूल ऑफ़ आर्ट व सर जे.जे. स्कूल ऑफ़ आर्ट, मुंबई से प्राप्त की| भारत में अनेक प्रदर्शनियाँ आयोजित करने के बाद सन् 1950 में वे फ्रांसीसी सरकार की छात्रवृत्ति पर फ्रांस गए और अध्ययन किया|

आधुनिक भारतीय चित्रकला को जिन कलाकारों ने नया और आधुनिक मुहावरा दिया, उनमें सैयद हैदर जी का नाम महत्वपूर्ण है| रज़ा की कला में भारतीय और पश्चिमी कला दृष्टियों का मेल हुआ| लंबे समय तक पश्चिम में रहने और वहाँ की कला की बारीकियों से प्रभावित होने के बाबजूद रज़ा ठेठ रूप से भारतीय कलाकार हैं| बिंदु उनकी कला-रचना के केंद्र में है| उनकी कई कलाकृतियाँ बिंदु का रूपाकार हैं| रज़ा की कला और व्यक्तित्व में उदात्तता है| उनकी कला में रंगों की व्यापकता और अध्यात्म की गहराई है| उनकी कला को भारत और दूसरे देशों में काफ़ी सराहा गया है|

कठिन शब्दों के अर्थ

• वारदात- दुर्घटना, घटना
• संदिग्ध- संदेहयुक्त
• स्केच- रूपरेखा
• गलीज़- अपवित्र, गंदे
• शहराती- शहर में लगने वाला
• चित्त- मन
• संतप्त- दुखी, उदास

Watch age fraud in sports in India

GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo