मियाँ नसीरुद्दीन - पठन सामग्री और सार NCERT Class 11th Hindi

पठन सामग्री, अतिरिक्त प्रश्न और उत्तर और सार - पाठ 2 - मियाँ नसीरुद्दीन (Miyan Nasiruddin) आरोह भाग - 1 NCERT Class 11th Hindi Notes

सारांश

मियाँ नसीरूद्दीन’ शब्द चित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है जिसकी लेखिका कृष्णा सोबती हैं| इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरूदीन के व्यक्तित्व, रूचियों और स्वभाव का शब्द चित्र खींचा गया है| इसमें मियाँ नसीरूद्दीन अपनी मसीहाई अंदाज से रोटी पकाने की कला और और उसमें खानदानी महारत को बताते हैं| वे अपने पेशे को कला का दर्जा देते हैं और करके सीखने को असली हुनर मानते हैं| 

एक दोपहर जब लेखिका घूमते-घूमते अचानक जामा मस्जिद के निकट मुहल्ले के एक अँधेरी दुकान के पास आती हैं तो पता चलता है कि वो खानदानी नानबाई मियाँ नसीरूद्दीन की दुकान है| उन्हें यह भी पता चला कि मियाँ छप्पन किस्म की रोटियाँ बनाने के लिए मशहूर हैं|

लेखिका के प्रश्न पूछने पर मियाँ नसीरूद्दीन समझ जाते हैं कि वो एक पत्रकार हैं| फिर भी वो उनके प्रश्नों का उत्तर बड़े ही आत्मविश्वास के साथ देते हैं| लेखिका को यह भी बताते हैं कि यह उनका खानदानी पेशा है| बादशाह के दरबार में भी उनके पूर्वजों ने काम किया है| लेखिका के यह पूछने पर कि दिल्ली के किस बादशाह के यहाँ उनके बुजुर्गों ने काम किया था, मियाँ थोड़े खिसिया उठे| लेखिका उनके बेटे-बेटियों के बारे में भी पूछना चाहती थीं, लेकिन मियाँ के चेहरे के भाव देखकर उन्होंने इस विषय को न छेड़ना ही उचित समझा|

बातों-बातों में यह भी पता चला कि मियाँ अपने शागिर्दों का भी बहुत सम्मान करते हैं| वे उन्हें समय पर उचित वेतन देते हैं| इस प्रकार, मियाँ नसीरूद्दीन के रोटियाँ बनाने की कला तथा उनके पेशे के प्रति समर्पण देखकर लेखिका बहुत प्रभावित हुईं|

कथाकार परिचय

कृष्णा सोबती

जन्म: सन् 1925, गुजरात (पश्चिमी पंजाब-वर्तमान में पाकिस्तान)
प्रमुख रचनाएँ- इनकी प्रमुख रचनाएँ जिंदगीनामा, दिलोदानिश, ऐ लड़की, समय सरगम (उपन्यास); डार से बिछुड़ी, मित्रो मरजानी, बादलों के घेरे, सूरजमुखी अँधेरे के, (कहानी संग्रह); हम-हशमत, शब्दों के आलोक में (शब्दचित्र, संस्मरण) हैं|

प्रमुख सम्मान- इन्हें साहित्य अकादमी सम्मान, हिंदी अकादमी का शलाका सम्मान, साहित्य अकादमी की महत्तर सदस्यता सहित अनेक राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किए गए| 

हिंदी कथा साहित्य में कृष्णा सोबती की विशिष्ट पहचान है| उनके अनुसार कम लिखना विशिष्ट लिखना है| यही कारण है कि उनके संयमित लेखन और साफ़-सुथरी रचनात्मकता ने अपना एक नित नया पाठक वर्ग बनाया है| उनके कई उपन्यासों, लंबी कहानियों और संस्मरणों ने हिंदी के साहित्यिक संसार में अपनी दीर्घजीवी उपस्थिति सुनिश्चित की है| उन्होंने हिंदी साहित्य को कई ऐसे यादगार चरित्र दिए हैं, जिन्हें अमर कहा जा सकता है; जैसे- मित्रो, शाहनी, हशमत आदि| भारत पकिस्तान पर जिन लेखकों ने हिंदी में कालजयी रचनाएँ लिखीं, उनमें कृष्णा सोबती का नाम पहली कतार में रखा जाएगा| 

कठिन शब्दों के अर्थ

• काइयाँ- चतुर
• लुत्फ़- आनंद, स्वाद
• अखबारनवीस- पत्रकार
• खुराफात- शरारत, उपद्रव
• निठल्ला- बेरोजगार
• इल्म- जानकारी
• नसीहत- सलाह
• शागिर्द- चेला, नौकरी करने वाला
• जमात- कक्षा, श्रेणी
• तालीम- शिक्षा
• बावर्चीखाना- रसोईघर
• मजमून- वह विषय जिस पर कुछ कहा जाए
• खिल्ली- मजाक
• रूखाई- अनमने ढंग से


GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo