The Story of My Life Ch 1 Summary in Hindi Class 10th

The Story of My Life Ch 1 Summary in Hindi Class 10th- पाठ 1 का सार और शब्दार्थ English

सार

हेलेन को अपनी जिंदगी की कहानी लिखने में हिचकिचाहट है। उसे लगता है कि आत्मकथा लिखना एक कठिन काम है। उसके विचार में अपनी बचपन की हू-ब-हू तस्वीर पेश करना आसान काम नहीं है चूँकि वह कई वर्ष बीत जाने के बाद वास्तविकता और कल्पना में अंतर नहीं कर पाती है। वह अपने बचपन के कई महत्वपूर्ण हिस्से को नयी चीज़ें याद करने में भूल गई हैं।

हेलेन केलेर का जन्म 27 जून 1880 को उत्तरी अल्बामा के टस्कम्बिया नामक एक छोटे से कस्बे में हुआ था। वह आर्थर एच. केलेर, जो कि मित्रराष्ट्र सेना में कप्तान थे और केट एडम्स की पहली संतान थी। उसके पिता के पूर्वज स्विट्ज़रलैंड से आये थे तथा मेरीलैंड में आकर बस गए थे।

उसकी बचपन की शुरआत ठीक उसी तरह हुई जैसा किसी अन्य बच्चे का होता है। बच्चे के नाम के बारे में निर्णय लिया गया कि उसका नाम नानीमाँ के नाम पर हेलेन एवर्ट रख जाएगा लेकिन बपतिस्मा (नामकरण संस्कार) के लिए चर्च ले जाते समय उसके पिता नाम भूल गए। जब उनसे नाम पूछा गया तो उन्होंने उसका नाम हेलेन एडम्स बताया।

एक साल की उम्र में ही हेलेन ने चलना शुरू कर दिया। दिन अच्छे गुजर रहे थे पर जब हेलेन उन्नीस महीने की थी तब वह बीमार पड़ गईं। डॉक्टर ने बिमारी को पेट व दिमाग की बहुत अधिक जकड़न के रूप में बताया। इस बिमारी ने उससे आँख की दृष्टि तथा सुनने की क्षमता छीन ली। धीरे-धीरे इस अन्धकार की उसको आदत सी पड़ने लगी तभी उसके जिंदगी में एक शिक्षिका का प्रवेश हुआ। हेलेन को अपनी जिंदगी की कहानी लिखने में हिचकिचाहट है। उसे लगता है कि आत्मकथा लिखना एक कठिन काम है। उसके विचार में अपनी बचपन की हू-ब-हू तस्वीर पेश करना आसान काम नहीं है चूँकि वह कई वर्ष बीत जाने के बाद वास्तविकता और कल्पना में अंतर नहीं कर पाती है। वह अपने बचपन के कई महत्वपूर्ण हिस्से को नयी चीज़ें याद करने में भूल गई हैं।

हेलेन केलेर का जन्म 27 जून 1880 को उत्तरी अल्बामा के टस्कम्बिया नामक एक छोटे से कस्बे में हुआ था। वह आर्थर एच. केलेर, जो कि मित्रराष्ट्र सेना में कप्तान थे और केट एडम्स की पहली संतान थी। उसके पिता के पूर्वज स्विट्ज़रलैंड से आये थे तथा मेरीलैंड में आकर बस गए थे।

उसकी बचपन की शुरआत ठीक उसी तरह हुई जैसा किसी अन्य बच्चे का होता है। बच्चे के नाम के बारे में निर्णय लिया गया कि उसका नाम नानीमाँ के नाम पर हेलेन एवर्ट रख जाएगा लेकिन बपतिस्मा (नामकरण संस्कार) के लिए चर्च ले जाते समय उसके पिता नाम भूल गए। जब उनसे नाम पूछा गया तो उन्होंने उसका नाम हेलेन एडम्स बताया।

एक साल की उम्र में ही हेलेन ने चलना शुरू कर दिया। दिन अच्छे गुजर रहे थे पर जब हेलेन उन्नीस महीने की थी तब वह बीमार पड़ गईं। डॉक्टर ने बिमारी को पेट व दिमाग की बहुत अधिक जकड़न के रूप में बताया। इस बिमारी ने उससे आँख की दृष्टि तथा सुनने की क्षमता छीन ली। धीरे-धीरे इस अन्धकार की उसको आदत सी पड़ने लगी तभी उसके जिंदगी में एक शिक्षिका का प्रवेश हुआ।

शब्दार्थ

• hesitation- संकोच
• veil - परदा
• classify - श्रेणी में करना
• impressions - प्रभाव
• fact - तथ्य, सत्य
• fancy - परिकल्पना
• fantasy - कल्पित वास्तविकता
• poignancy - तीखापन
• tedious - थकाऊ
• ancestors - पूर्वज
• homestead - मकान जिसके साथ बहुत से छोटे-छोटे मकान जुड़े हों
• arbout - बरामदा
• porch - ओसारा
• clematis - एक प्रकार की बेल
• festoons - फूलों का हार
• untainted - बेदाग
• self-asserting - स्वयं पर जोर देते हुए
• disposition - स्वभाव
• imitating - नकल
• dreary - उदास
• congestion - जकड़न
• agony - व्यथा

Go To Chapters

Watch age fraud in sports in India

GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo