NCERT Solutions for Class 12 Hindi Aaroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख NCERT Solutions for Class 12 Hindi Aaroh is available here which will prepare students to do better during immense pressure. NCERT Solutions are one of the most basic and sought thing but finding NCERT Solutions are that are reliable, accurate and detailed is not an easy task. छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख are written by उमाशंकर जोशी that help you get a deeper understanding of various topics.

NCERT Solutions for Class 12 Hindi Aaroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख Class 12 Hindi Aaroh NCERT Solutions


1. छोटे चौकोने खेत को कागज़ का पन्ना कहने में क्या अर्थ निहित है?

उत्तर

छोटे चौकोने खेत को कागज़ का पन्ना कहने में यह अर्थ निहित है कि जिस प्रकार कागज़ का पन्ना चौकोर होता है उसी प्रकार छोटा खेत भी चौकोर होता है। जिस प्रकार खेत में  जल, बीज, रसायन तत्व डालते हैं और उसमें अंकुर, फूल, फल आदि उगते हैं उसी प्रकार कागज के पन्ने पर कवि अपने भाव के बीज बोता है तथा उसे कल्पना, भाषा आदि के जरिये रचना के रूप में फसल मिलती है। यह रचना अनंत काल तक समाप्त नहीं होती है।

2. रचना के संदर्भ में अंधड़ और बीज क्या हैं?

उत्तर

रचना के संदर्भ में अंधड़ भावनात्मक आँधी का तथा बीज रचना-विचार और अभिव्यक्ति का प्रतीक है।

3. रस को अक्षयपात्र से कवि ने रचनाकर्म की किन विशेषताओं की ओर इंगित किया है?

उत्तर

• रचना से निकलने वाली धारा अनंत काल तक बहती है|
• यह जितना बाँटा जाता है, उतना ही भरता जाता है।
• यह चिरकाल तक आनंद देता है।

4. व्याख्या करें
1. शब्द के अंकुर फूटे,
पल्लव-पुष्पों से नमित हुआ विशेष।
2. रोपाई क्षण की,
कटाई अनंतता की
लुटते रहने से जरा भी नहीं कम होती।

उत्तर

1. कवि कहना चाहता है कि कागज के पन्ने पर जब उसके भावों का बीज बोया जाता है तो वह कल्पना के सहारे उगता है। उसमें शब्द रूपी अंकुर फूटते हैं फिर पल्लवित और पुष्पित होते हैं अर्थात् विशेष भाव रूपी पुष्प लगते हैं और सबको अनंत काल तक आनंदित करते हैं।

2. कवि कहता है कि बीज रोपन में बहुत कम समय लगता है, लेकिन बीज रोपने और कविता लिखने में बहुत फर्क होता है। खेत में बोया गया बीज कुछ समय बाद खत्म हो जाता है, लेकिन कविता रूपी फ़सल का असर और आनंद चिरस्थायी होता है। यह कवि का कभी न खत्म होने वाला ऐसा खजाना है जिसे वह जितना लुटाता है उतना ही बढ़ता ही जाता है।

कविता के आसपास

1. शब्दों के माध्यम से जब कवि दृश्यों, चित्रों, ध्वनि-योजना अथवा रूप-रस-गंध को हमारे ऐंद्रिक अनुभवों में साकार कर देता है तो बिंब का निर्माण होता है। इस आधार पर प्रस्तुत कविता से बिंब की खोज करें।

उत्तर

ध्वनि बिम्ब - छोटा मेरा खेत चौकोना,
कागज का एक पन्ना,
कोई अंधड़ कहीं से आया।
शब्द के अंकुर फूटे,

आस्वाद बिंब- कल्पना के रसायनों को पी बीज गया नि:शेष।
अमृत धाराएँ फूटतीं।

2. जहाँ उपमेय में उपमान का अरोप हो, रूपक कहलाता है। इस कविता में से रूपक का चुनाव करें।

उत्तर

भावों रूपी आँधी
विचार रूपी बीज
शब्द रूपी अंकुर
कल्पना रूपी रसायन
कागज़ रूपी खेत
कटाई रूपी अनंतता
क्षण रूपी बुआई

Previous Post Next Post
X
Free Study Rankers App Download Now