NCERT Solutions for Class 12 Hindi Aaroh Chapter 6 उषा

Chapter 6 उषा NCERT Solutions for Class 12 Hindi Aaroh that serve as beneficial tool that can be used to recall various questions any time. These NCERT Solutions are prepared as per the accordance of latest CBSE guidelines so you can score maximum marks. उषा is written by शमशेर बहादुर सिंह which allows students to cover the entire syllabus effectively without any frustration.

NCERT Solutions for Class 12 Hindi Aaroh Chapter 6 उषा

Chapter 6 उषा Class 12 Hindi Aaroh NCERT Solutions


कविता के साथ

1. कविता के किन उपमानों को देखकर यह कहा जा सकता है कि उषा कविता गाँव की सुबह का गतिशील शब्दचित्र है?

उत्तर

राख से लीपा हुआ चौका।
बहुत काली सिल।
स्लेट पर या लाल खड़िया चाक मलना।
किसी की गौर झिलमिल देह का हिलना।
ग्रामीण परिवेश में गृहिणी भोजन बना कर चौका राख से लीपती हैं जो काफी समय तक गीला रहता है, काले सिल पर केसर पीसने का कार्य भी प्रायः स्त्रियाँ ही करती हैं और काली स्लेट पर लाल खड़िया चॉक मलने का काम छोटे ग्रामीण लड़के करते हैं। इस प्रकार इन उपमानों को देखकर यह कहा जा सकता है कि उषा कविता गाँव की सुबह का गतिशील शब्दचित्र है|

2. भोर का नभ
        राख से लीपा हुआ चौका
        (अभी गीला पड़ा है)
नयी कविता में कोष्ठक, विराम चिह्नों और पंक्तियों के बीच का स्थान भी कविता को अर्थ देता है। उपर्युक्त पंक्तियों में कोष्ठक से कविता में क्या विशेष अर्थ पैदा हुआ है? समझाइए।

उत्तर

कवि ने अपनी पंक्तियों में कोष्ठक का प्रयोग कर अपने कथन को स्पष्टता प्रदान की है। ’अभी गीला पड़ा है - राख से लीपे हुए चौके की जानकारी देता है| कवि कहते हैं यह चौका प्रात:कालीन ओस के कारण गीला पड़ा हुआ है। गीला चौका अधिक गहरे रंग का होता है पर सूख जाने पर उसका स्लेटी रंग हलका हो जाता है।

अपनी रचना

1. अपने परिवेश के उपमानों का प्रयोग करते हुए सूर्योदय और सूर्यास्त का शब्दचित्र खींचिए।

उत्तर

सूर्योदय सूर्यास्त
गुलाल की लाली चारों ओर फ़ैल गयी है  थका पंक्षी अपने घोसलों में जा रहा है
श्यामपट पर कुछ नया लिखा जा रहा हो श्यामपट की लिखावट धुँधली हो चुकी है
पक्षियों की चहचाहट मन को मोहने वाली है आसमान में भागदौड़ बढ़ गयी है

Previous Post Next Post
X
Free Study Rankers App Download Now