Ch 2 The Address Hindi Summary Class 11 Snapshots by Marga Minco

In this page, you will find The Address Hindi Summary which will be beneficial for the purpose of examinations. The story narrates how a daughter goes in search of her mother’s belongings after the War, in Holland. You can also view The Address Summary in English.

Ch 2 The Address Hindi Summary Class 11 Snapshots

कथावाचिका श्रीमती एस की बेटी है जो अपनी माँ की मृत्यु के बाद अपनी माँ के सामान की तलाश में युद्ध के बाद अपने मूल स्थान पर गई थीं| उन्होंने श्रीमती डोरलिंग की खोज में मार्कोनी स्ट्रीट में हाउस नंबर 46 की घंटी बजाई जो उनकी माँ की पुरानी परिचित थीं। एक महिला ने दरवाजा खोला। महिला ने कथावाचिका की माँ के हरे रंग का बुना हुआ कार्डिगन पहन रखा था इसलिए कथावाचिका को पता लग गया कि वह सही महिला हैं जिसकी तलाश वह कर रही हैं। उसने महिला से पूछा कि क्या वह उनकी माँ को जानती हैं। महिला ने इनकार नहीं किया, लेकिन महिला ने सावधानीपूर्वक दरवाजा बंद कर दिया हालांकि कथावाचिका उनसे बात करना चाहती थीं। कथावाचिका कुछ देर बाद वहाँ से चली गयीं।

कहानी कथावाचिका की स्मृति में जाती हैं जब उसकी माँ जीवित थीं और उनका अपना देश हॉलैंड युद्ध के बीच था। कथावाचिका की माँ ने युद्ध के दौरान वर्षों पहले एक पता दिया था। वह कुछ दिनों के लिए घर आई थीं। कथावाचिका ने पाया  कि घर से विभिन्न चीजें गायब थीं। कथावाचिका माँ ने उसे श्रीमती डोरलिंग के बारे में जानकारी दी जो उनकी माँ की पुरानी परिचित थी। श्रीमती डोरलिंग ने सभी अच्छी चीजों को सुरक्षित रूप से रखने का वादा किया था। हर बार जब वह कथावाचिका का घर छोड़ती तो वह अपने साथ कुछ ले कर जातीं।

कथावाचिका जब घर जाने के लिए ट्रेन में थीं तब उन्हें याद आया कि अगले दिन कथावाचिका ने श्रीमती डोरलिंग को अपने घर से भारी सूटकेस के साथ बाहर जाते हुए देखा था। उस समय कथावाचिका को श्रीमती डोरलिंग के चेहरे की एक संक्षिप्त झलक मिली| उन्होंने अपनी माँ से पूछा कि क्या वह महिला बहुत दूर रहती है। उस समय कथावाचिका की माँ ने पते के बारे में बताया: नंबर 46, मार्कोनी स्ट्रीट।

आज़ादी का युद्ध समाप्त होने के बाद, कथावाचिका अपने शहर लौट आईं। पहली असफल यात्रा के बाद, कथाकार ने एक बार फिर से श्रीमती डोरलिंग के यहाँ जाने का फैसला किया। इस बार श्रीमती डोरलिंग की 15 वर्षीय बेटी ने दरवाजा खोला। चूंकि उसकी माँ वहां नहीं थी, कथावाचिका ने प्रतीक्षा करने का फैसला किया। उसने लड़की का अनुसरण किया। उसने देखा कि एक पुराने जमाने की लोहे की मोमबत्ती धारक आईने के बगल में लटका हुआ है। कथावाचिका को लिविंग रूम में ले जाया गया। कथावाचिका ने खुद को उन चीजों के बीच में पाया जो वह देखना चाहती थी। लेकिन उन्हें अजीब तरीके से व्यवस्थित देख वह व्यथित हो गई। वह एक मेज पर बैठ गई और देखा कि टेबल का कपड़ा उसकी माँ का था। कपड़े के किनारे पर एक जले का निशान था, जिसे कथावाचिका की माँ द्वारा ठीक नहीं किया गया था।

लड़की ने एक सफेद बर्तन से चाय की पेशकश की जिसके ढक्कन के किनारे पर सोने के काम किया हुआ था । उसने एक डिब्बा खोला और कुछ चम्मच निकाले। वे सभी बातें कथावाचिका की माँ के सामान का एक हिस्सा थीं। लड़की साइड बोर्ड पर एक दराज खोलने गई|

लेकिन कथावाचिका उन्हें देखने के लिए इंतजार नहीं कर पाई। वह परेशान होने लगीं। इसलिए, वह उठकर ट्रेन पकड़ने के लिए चली गईं। उन्होंने उन चीजों में रुचि खो दी थी जो उसके घर लिए गए थे और अजीब तरीके से व्यवस्थित थे। उन्होंने उस पत्ते को भूल जाने का फैसला किया और आगे बढ़ गईं।
Previous Post Next Post
X
Free Study Rankers App Download Now