पाठ 7 - मेरे बचपन के दिन Extra Questions

पाठ 7 - मेरे बचपन के दिन Extra Questions क्षितिज़ Class 9th हिंदी

अर्थग्रहण संबंधी प्रश्नोत्तर -

1. बचपन की स्मृतियों में एक विचित्र-सा आकर्षण होता है। कभी-कभी लगता है, जैसे सपने में सब देखा होगा। परिस्थितियाँ बहुत बदल जाती हैं। अपने परिवार में मैं कई पीढ़ियों के बाद उत्पन्न हुई। मेरे परिवार में प्राय: दो | सौ वर्ष तक कोई लड़की थी ही नहीं। सुना है, उसके पहले लड़कियों को पैदा होते ही परमधाम भेज देते थे। फिर मेरे बाबा ने बहुत दुर्गा पूजा की। हमारी कुलदेवी दुर्गा थीं। मैं उत्पन्न हुई तो मेरी बड़ी खातिर हुई और मुझे वह सब नहीं सहना पड़ा | जो अन्य लड़कियों को सहना पड़ता है। परिवार में बाबा फ़ारसी और उर्दू जानते थे। पिता ने अंग्रेजी पढ़ी थी। हिंदी का कोई वातावरण नहीं था। मेरी माता जबलपुर से आईं तब वे अपने साथ हिंदी लाईं। वे पूजा-पाठ भी बहुत करती थीं। पहले-पहल उन्होंने मुझको ‘पंचतंत्र' पढ़ना सिखाया।

(क) महादेवी के जन्म के समय समाज में लड़कियों की दशा कैसी थी?

(ख) महादेवी ने हिंदी किस प्रकार सीखी?

(ग) लेखिका का पालन-पोषण अन्य लड़कियों से भिन्न कैसे और क्यों हुआ?

उत्तर

(क) महादेवी के जन्म के समय समाज में लड़कियों को बोझ माना जाता था| उनके पैदा होते ही उन्हें मार दिया जाता था|

(ख) महादेवी के पिता ने अंग्रेजी पढ़ी थी और घर में हिंदी का कोई वातावरण नहीं था| जब उनकी माता जबलपुर से आईं तब उन्होंने महादेवी को पंचतन्त्र पढ़ना सिखाया और इस प्रकार उन्होंने हिंदी सीखी|

(ग) लेखिका के जन्म के समय लड़कियों को हीन दृष्टि से देखा जाता था, लेकिन उनका पालन-पोषण बड़े ही लाड़-प्यार से हुआ| उनकी बड़ी खातिर हुई तथा किसी प्रकार का कष्ट नहीं होने दिया गया|

2. फिर यहाँ कवि-सम्मेलन होने लगे | तो हम लोग भी उनमें जाने लगे। हिंदी का उस समय प्रचार-प्रसार था। मैं सन् 1917 में यहाँ आई थी। उसके उपरांत गांधी जी का सत्याग्रह आरंभ हो गया और आनंद भवन स्वतंत्रता के संघर्ष का केंद्र हो गया। जहाँ-तहाँ हिंदी का भी प्रचार चलता था। कवि-सम्मेलन होते थे तो क्रास्थवेट से मैडम हमको साथ लेकर जाती थीं। हम कविता सुनाते थे। कभी हरिऔध जी अध्यक्ष होते थे, कभी श्रीधर पाठक होते थे, कभी रत्नाकर जी होते थे, कभी कोई होता था। कब हमारा नाम पुकारा जाए, बेचैनी से सुनते रहते थे। मुझको प्रायः प्रथम पुरस्कार मिलता था। सौ से कम पदक नहीं मिले होंगे उसमें|

(क) प्रतिभागी के रूप में महादेवी कवि-सम्मलेन में कौन-सा स्थान प्राप्त करती थीं?

(ख) 1917 में स्वतंत्रता-संग्राम का क्या स्वरुप था?

(ग) सन् 1917 में हिंदी की क्या स्थिति थी?

उत्तर

(क) प्रतिभागी के रूप में महादेवी वर्मा को कवि-सम्मलेन में प्रथम पुरस्कार मिलता था| उन्हें सौ से अधिक पदक मिले थे| 

(ख) 1917 में गांधीजी के नेतृत्व में स्वतंत्रता-संग्राम शुरू हो चुका था| इसकी पहल गांधीजी ने सत्याग्रह से किया| जगह-जगह हिंदी के कवि-सम्मलेन के द्वारा जन-जागरण का कार्य शुरू हो चुका था|

(ग) सन् 1917 में हिंदी का खूब प्रचार-प्रसार हो रहा था और जगह-जगह हिंदी में कवि-सम्मलेन भी होते थे| हिंदी के प्रचार के माध्यम से स्वतंत्रता आंदोलन को और भी व्यापक बनाया जा रहा था|

महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर -

1. महादेवी के परिवार में लड़कियों के साथ कैसा व्यवहार होता था?

उत्तर

200 वर्ष पहले तक महादेवी के परिवार में लड़कियों को जन्म लेते ही मार दिया जाता था| महादेवी का जन्म परिवार में कई पीढ़ियों के बाद कुल-देवी दुर्गा की आराधना के बाद हुआ था| लेखिका का पालन-पोषण बड़े ही लाड़-प्यार से हुआ| माता-पिता ने खूब पढ़ाया-लिखाया और किसी प्रकार का कष्ट नहीं होने दिया गया|

2. लेखिका उर्दू-फारसी क्यों नहीं सीख पाईं?

उत्तर

लेखिका के परिवार में बाबा उर्दू-फारसी के अच्छे जानकार थे| वे चाहते थे कि लेखिका भी उर्दू-फारसी सीख ले, लेकिन ऐसा नहीं हुआ| जब भी मौलवी साहब घर पर सिखाने आते थे, लेखिका चारपाई के नीचे छिप जातीं थीं| उन्हें उर्दू-फारसी सीखने में कोई रुचि नहीं थी| इस प्रकार वह कभी उर्दू-फारसी नहीं सीख पाईं|

3. महादेवी वर्मा की माँ के व्यक्तित्व की विशेषताओं का वर्णन करें|

उत्तर

लेखिका महादेवी वर्मा की माँ को हिंदी से बहुत लगाव था| वे पूजा-पाठ भी बहुत करती थीं| वह संस्कृत भी जानती थीं| गीता में उन्हें विशेष रुचि थी| उन्हें लिखने का भी शौक था| वह विशेष रूप से मीरा के पद भी गाती थीं|

4. बेगम साहिबा की चारित्रिक विशेषताओं का वर्णन किजिए|

उत्तर

बेगम साहिबा मुसलमान होते हुए भी लेखिका महादेवी जी के परिवार से भावनात्मक रूप से जुड़ी थीं| वह एक मिलनसार तथा खुले विचारों वाली महिला थी| उन्होंने महादेवी के परिवार के साथ ऐसे संबंध जोड़ लिए थे जैसे वह उन्हीं के परिवार का हिस्सा हो|     


Watch age fraud in sports in India

Contact Form

Name

Email *

Message *

© 2019 Study Rankers is a registered trademark.

Download StudyRankers App and Study for FreeDownload NOW

x