Extra Questions of पाठ 6 - पार नज़र के| वसंत भाग - I Class 6th

Extra Questions of Chapter 6 Paar Nazar Ke Vasant Part I Class 6th

अर्थग्रहण सम्बन्धी प्रश्न -


(क) वैसे तो उनकी पूरी कॉलोनी ही जमीन के नीचे बसी थी। यह जो सुरंगनुमा रास्ता था—अंदर दीये जल  एक बंद दरवाज़े का सामना करना पड़ता था। दरवाज़े में एक खाँचा बना हुआ था। छोटू ने खाँचे में कार्ड डाला, तुरंत दरवाज़ा खुल गया। छोटू ने सुरंग में प्रवेश किया। अंदर वाले खाँचे में सिक्योरिटी-पास आ पहुँचा था। उसे उठा लिया, कार्ड उठाते ही दरवाज़ा बंद हुआ। छोटू ने चारों तरफ़ नज़र दौड़ाई। सुरंगनुमा वह रास्ता ऊपर की तरफ़ जाता था......यानी ज़मीन के ऊपर का सफ़र कर आने का मौका मिल गया था।

1. उनकी कॉलोनी कहाँ बसी हुई थी?

उत्तर

उनकी कॉलोनी ज़मीन के नीचे बसी हुई थी।

2. दरवाजें में क्या बना हुआ था ?    

उत्तर

दरवाजें में खाँचे बना हुआ था |

3. सुरंगनुमा रास्ता किस तरफ़ जाता था ? 

उत्तर

सुरंगनुमा रास्ता ऊपर किस तरफ़ जाता था |

4. छोटू को कैसा मौका मिल गया था ?

उत्तर

छोटू को जमीन के ऊपर का सफ़र करने का मौका मिल गया था। 



लघु उत्तरीय प्रश्न -

1. सुरंग में प्रवेश किस प्रकार किया जाता था ?

उत्तर

सुरंग में प्रवेश करने के लिए एक बंद दरवाजे का सामना करना पड़ता था। दरवाजे के पास बने खाँचे में कार्ड डालकर उसे खोला जा सकता था ।

2. अंतरिक्षयानों को जलाकर ख़ाक करने से क्या क्षति संभव हो सकती है ?

उत्तर

अंतरिक्षयानों को जलाकर खाक कर देने से उनके बारे में कोई जानकारी प्राप्त करना संभव नहीं हो सकेगा।

3. हमारे पास किस प्रकार के यंत्रों और उपकरणों का अभाव है ?

उत्तर

हमारे पास ऐसे यंत्र और उपकरण नहीं हैं जिनके द्वारा अंतरिक्षयान को बेकार कर जमीन पर उतरने के लिए मजबूर किया जा सके।

4. मंगल ग्रह पर कौन उतरा था? उसमें क्या खराबी आ गई थी ?

उत्तर

मंगल ग्रह पर अंतरिक्षयान वाइकिंग उतरा था। उसका यांत्रिक हाथ किसी अज्ञात कारण से ख़राब हो गया था।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न – 

1. छोटू के पिता ने उसे झापड़ क्यों रसीद कर दिया ? 

उत्तर

छोटू कॉन्सोल के एक बटन को दबाने की इच्छा को नहीं रोक पाया। वह लाल-लाल बटन उसे बरबस अपनी तरफ खींच रहा था और उसने बटन दबा दिया। सहसा खतरे की घंटी बजी। तभी छोटू के पापा ने उसे अपनी और खींचते हुए एक झापड़ रसीद कर दिया।

2. छोटू ने पूछा-“पिताजी, आम आदमी वहाँ नहीं जा सकता, तो फिर आप कैसे जाते हैं वहाँ ? " इस पर छोटू को उन्होंने कैसे समझाया ? 

उत्तर

छोटू के पिता ने उसे समझाया कि वह वहाँ एक खास किस्म का स्पेस-सूट पहनकर जाते हैं। इस सूट से उन्हें साँस लेने के लिए ऑक्सीजन मिलती रहती है। इसी सूट की वजह से बाहर की ठंड से वह अपने को बचा सकते हैं तथा खास किस्म के जूतों की वजह से मंगल की जमीन के ऊपर उनका चलना मुमकिन होता है तथा इस जमीन के ऊपर चलने-फिरने के लिए उन्हें एक विशेष प्रकार का प्रशिक्षण दिया जाता है। 



Watch age fraud in sports in India
Facebook Comments
0 Comments
© 2017 Study Rankers is a registered trademark.