पाठ 1- यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय इतिहास के नोट्स| Class 10th

पठन सामग्री और नोट्स (Notes)| पाठ 1-  यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय (Europe me Rashtravaad ka Uday) Itihas Class 10th

• उन्नीसवीं शताब्दी के दौरान, राष्ट्रवाद के विचारों ने यूरोप के राजनीतिक और मानसिक दुनिया में अनेक परिवर्त्तन किया।

फ्रांसीसी क्रांति और राष्ट्र का विचार

• राष्ट्रवाद की पहली स्पष्ट अभिव्यक्ति 1789 में फ्रांसीसी क्रांति के साथ हुई।

• फ्रांसीसी क्रांतिकारियों द्वारा फ्रांसीसी लोगों के बीच सामूहिक पहचान की भावना पैदा करने के लिए उठाए गए कदम।

→ La patrie और Le citoyen के विचार

→ नया फ्रांसीसी झंडा

→ एस्टेट्स जनरल को चुना गया और उसका नाम बदलकर नेशनल असेंबली रखा गया

→ नई स्तुतियाँ रची गई और शपथ ली गई

→ केंद्रीकृत प्रशासनिक व्यवस्था प्रणाली

→ आंतरिक आयात -निर्यात शुल्क समाप्त कर दिए गए

→ भार और माप की एकसमान प्रणाली लागू की गई

→ फ्रांसीसी को आम लोगों की भाषा बनायी गई

नेपोलियन

• फ्रांस में 1799 से 1815 तक शासन किया।

• 1799 में प्रथम राजदूत बनकर पूर्ण अधिकार प्राप्त किया।

1804 की नागरिक संहिता अथवा नेपोलियन की संहिता

• कानून के समक्ष बराबरी और सम्पति के अधिकार को सुरक्षित बनाया।

• प्रशासनिक विभाजन को सरल बनाया।

• सामंती व्यवस्था को समाप्त किया।

• किसानों को भू -दासत्व और जागीदारी शुल्कों से मुक्ति दिलाई।

• यातायात और संचार प्रणालियों में सुधार किया गया।

• नेपोलियन ने राजनीतिक स्वतंत्रता छीन ली, करों में वृद्धि की, सेंसरशिप लगाई और लोगों को फ्रांसीसी सेना में शामिल होने के लिए मजबूर किया।

यूरोप में राष्ट्रवाद का निर्माण

सामूहिक पहचान या समान संस्कृति नहीं होने के कारण कोई भी राष्ट्र राज्य यूरोप में नहीं थे।

• अलग -अलग क्षेत्रों में रहने वाले लोग अक्सर अलग -अलग भाषाएँ बोलते थे।

• उदाहरण: हंगरी की आधी आबादी मैग्यार भाषा बोलते थे, जबकी बाकी आधी आबादी दूसरी विभिन्न भाषाऐं की भाषा बोलते थे। गालीसिया के कुलीन वर्ग पोलिश भाषा बोलते थे।

• कुलीन वर्ग और नया मध्यवर्ग

→ कुलीन वर्ग :- सामाजिक और राजनातिक रूप से भूमि का मालिक

→ आपस में विवाहिक संबंधों से जुड़ा हुआ था और बोलचाल में फ्रेंच भाषा प्रयोग करते थे।

→ जनसंख्या की दृष्टि से यह समूह छोटा था।

• किसान

→ अधिकांश जनसंख्या

• मध्यवर्ग 

→ कस्बों के विकास और वाणिज्यिक वर्गों के उदय के साथ ही नया सामाजिक वर्ग उभरा।

→ शिक्षित और उदारवादी मध्यवर्गों के बीच ही राष्ट्रीयता के विचारों को लोकप्रियता मिली।

उदारवादी राष्ट्रवाद के क्या मायने थे ?

• उदारवाद व्यक्ति की आजादी और कानून के समक्ष बराबरी लिए खड़ा था।

→ निरंकुश शासक और पादिरीवर्ग विशेषाधिकारों की समाप्ति।

→ संसद के माध्यम से एक संविधान और प्रतिनिधि सरकार।

→ आर्थिक क्षेत्र में उदारवाद, बाजारों की मुक्ति और चीजों और पूंजी के आगमन पर राज्य द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों को समाप्त करने के पक्ष में था।

→ ज़ोल्वरिन(एक सीमा शुल्क संघ) ने टैरिफ बाधाओं को समाप्त कर दिया, मुद्राओं की संख्या को दो तक कम कर दिया और गतिशीलता को प्रोत्साहित करने के लिए रेल के नेटवर्क को बढ़ावा दिया।

1815 के बाद एक नया रूढ़िवाद

• नेपोलियन द्वारा शुरू किए गए परिवर्तनों से यह मान लिया गया की राज्य और समाज के स्थापित संस्थानों को मजबूत बनाने में सक्षम है।

1815 की विएना की संधि
• फ्रांस में बूर्बों राजवंश को बहाल किया गया था।

• फ्रांस की सीमाओं पर कई राज्य कायम कर दिये गए ताकि भविष्य में फ्रांस विस्तार न कर सके।

• जर्मन परिसंघ को बरकरार रखा गया।

• इसका मुख्य उद्देश्य नेपोलियन द्वारा बर्खास्त किये गए राजतंत्रों को बहाल करना था।

क्रांतिकारी

• विएना कांग्रेस के बाद स्थापित किए गए राजतंत्रीय रूपों का विरोध करना और स्वतंत्रता की लड़ाई के लिए प्रतिबद्धता।

ज्युसेपी मेत्सिनी

• 1807 में जेनोआ में पैदा हुए।

• कार्बोनारी के गुप्त संगठन का सदस्य

• मार्सेई में युवा इटली एवं बर्न में यंग यूरोप की स्थापना।

• एक गणतंत्र राष्ट्र के रूप में इटली के एकीकरण पर विश्वास किया।

क्रांतियों की आयु: 1830-1848

• फ्रांस में जुलाई 1830 में बूर्बों राजाओं को उखाड़ फेंका गया और एक संवैधानिक राजतंत्र स्थापित किया गया।

• बेल्जियम नीदरलैंड के संयुक्त राज्यों से अलग हो गया।

• पंद्रहवीं शताब्दी के बाद से ग्रीस, जो ओटोमन साम्राज्य का हिस्सा था, आजादी के लिए संघर्ष आरम्भ किया।

• कुस्तुनतुनिया की संधि ने 1832 में ग्रीस को एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में मान्यता दे दी।

रूमानी कल्पना और राष्ट्रीय भावना

• एक सांस्कृतिक आंदोलन जिसने राष्ट्रवादी भावना के एक विशेष रूप को विकसित की, जिसमें तर्क- वितर्क और विज्ञान के महिमामंडन की आलोचना की और उसकी जगह भावनाओं, अंतर्दृष्टि और रहस्यवादी भावनाओं पर जोर दिया।

• जर्मन दार्शनिक योहान गॉटफ्रीड ने लोक गीत, लोक कविता और लोक नृत्यों के माध्यम से आम लोगों के बीच जर्मन संस्कृति को जगाने की कोशिश की।

भूख, कठिनाइयाँ और जन विद्रोह

• अधिकांश देशों में उपलब्ध रोजगार की तुलना में नौकरियों ढूँढने वाले अधिक थे।

• ग्रामीण इलाकों की अतिरिक्त आबादी शहर जाकर भीड़ -भाड़ वाले गरीब वस्तियों में रहने लगी।

• खाद्य पदार्थ की कीमत बढ़ने या फसल के खराब होने के कारण शहरों और गाँवों में व्यापक गरीबी फैल जाती थी।

• वर्ष 1848 में, पेरिस के लोग सड़क पर उतर आए और लुई फिलिप को भागने पर मजबूर किया गया अन्तः नेशनल असेंबली ने पेरिस को एक गणराज्य घोषित किया।

• वर्ष 1845 में, सिलेसिया में बुनकरों ने ठेकेदारों के खिलाफ विद्रोह कर दिया।

1848: उदारवादियों की क्रांति

• क्रांति का नेतृत्व शिक्षित मध्यवर्गों ने किया इन्होंने संविधानवाद की माँग को राष्ट्रीय एकता के साथ जोड़ दिया।

फ्रैंकफर्ट संसद

• 18 मई 1848 को, राजनीतिक संगठन के 831 निर्वाचित सदस्यों ने फ्रैंकफर्ट संसद की बैठक सेंट पॉल के चर्च में आयोजित किया और जर्मन राष्ट्र के लिए एक संविधान का मसौदा तैयार किया।

• यह प्रशिया के राजा द्वारा अस्वीकार किया गया था और वही संसद का सामाजिक आधार कमजोर हो गया था क्योंकि श्रमिकों ,मजदूरों और महिलाओं को कोई अधिकार नहीं दिया गया था।

• इन्होंने निरंकुश राजतंत्रों में कुछ बदलाव लाने के लिए मजबूर किया - भूदासत्व और बंधुआ श्रम को समाप्त कर दिया गया।

• हंगरी को अधिक स्वायत्तता दी गई।

जर्मनी और इटली का निर्माण

जर्मनी

• प्रशा की सेना और नौकरशाही की मदद से ओटो वैन बिस्मार्क ने राष्ट्रीय एकीकरण के लिए आंदोलन का नेतृत्व किया था।

• सात वर्षों के दौरान तीन युद्धों में प्रशिया की जीत हुई और एकीकरण की प्रक्रिया पूरी हुई।

• प्रशा के कैसर विलियम प्रथम ने नए जर्मन साम्राज्य का नेतृत्व किया।

इटली

• इटली सात राज्यों में बॉंटा हुआ था जिनमें से केवल एक सार्डिनिया पीडमॉन्ट पर एक इतालवी राजघराने का शासन था।

• ज्यूसेपे मेत्सिनी ने द्वारा एक एकीकरण कार्यक्रम का शुरुआत किया गया था लेकिन यह असफल रहा।

• मंत्री प्रमुख कैवोर ने ग्यूसेप गैरीबाल्डी की मदद से आंदोलन का नेतृत्व किया था।

• 1861 में विक्टर इमैनुएल द्वतीय को एकीकृत इटली का राजा घोषित किया गया था।

ब्रिटेन का अजीब दास्तान

• 1688 में संसद के माध्यम से एक राष्ट्र-राज्य का निर्माण हुआ जिसके केंद्र में इंग्लैंड था।

• अंग्रेजी संसद ने राजशाही से ताकत छीन ली थी।

• यूनियन अधिनियम 1707 के परिणामस्वरूप 'यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन’ का गठन हुआ।

• असफल क्रांति के बाद 1801 में आयरलैंड को बलपूर्वक यूनाइटेड किंगडम में शामिल कर लिया गया।

• नया 'ब्रितानी राष्ट्र' का निर्माण किया गया और एक प्रमुख एंग्लो संस्कृति का प्रचार-प्रसार किया गया।

राष्ट्र की दृश्य-कल्पना

• राष्ट्र को महिला के आकृति (रूपक) के रूप में चित्रित किया गया था।

• राष्ट्र को स्त्री के रूप में परिभाषित करने के लिए चुना गया था जो वास्तविक जीवन में किसी विशेष महिला के लिए नहीं थी , बल्कि उसने राष्ट्र के अमूर्त विचार को ठोस रूप देने की प्रयास था।

• फ्रांस में मारीआन और जर्मनी में जर्मनिया को राष्ट्र का रूपक माना गया।

राष्ट्रवाद और साम्राज्यवाद

• बाल्कन क्षेत्र में आधुनिक रोमानिया, बुल्गारिया, अल्बानिया, ग्रीस, मैसेडोनिया, क्रोएशिया, बोस्निया-हर्जेगोविना, स्लोवेनिया, सर्बिया और मोंटेनेग्रो शामिल थे।

• बाल्कन भौगोलिक और जातीय भिन्नता का एक क्षेत्र था जो ओटोमन साम्राज्य के नियंत्रण में था।

• रूमानी राष्ट्रवाद के विचारों और ऑटोमन साम्राज्य के विघटन से स्थिति काफी विस्फोटक हो गई थी।

• बाल्कन राज्य एक-दूसरे से भारी ईर्ष्या करते थे और प्रेत्यक राज्य ज्यादा से ज्यादा इलाका हथियाना चाहता था।

• यूरोपीय शक्तियाँ भी इस क्षेत्र पर अपना नियंत्रण बढ़ाने की कोशिश कर रही थीं।

• इसके कारण इस क्षेत्र में कई युद्ध हुए और अंततः प्रथम विश्व युद्ध हुआ।

NCERT Solutions of पाठ 1-  यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय

Which sports has maximum age fraud in India to watch at Powersportz.tv
Facebook Comments
0 Comments
© 2017 Study Rankers is a registered trademark.