NCERT Solutions for Class 12th: Ch 15 जैव-विविधता एवं संरक्षण जीव विज्ञान

NCERT Solutions of Jeev Vigyan for Class 12th: Ch 15 जैव-विविधता एवं संरक्षण जीव विज्ञान  

प्रश्न 

पृष्ठ संख्या 293

1. जैवविविधता के तीन आवश्यक घटकों (कंपोनेंट) के नाम बताइए|

उत्तर

जैवविविधता, जैवीय संगठन के सभी स्तरों में उपस्थित कुल विविधता को दर्शाती है|

जैवविविधता के तीन आवश्यक घटक निम्नलिखित है :
(क) आनुवांशिक विविधता
(ख) जातीय विविधता
(ग) पारितंत्र विविधता

2. पारिस्थितिकीविद् किस प्रकार विश्व की कुल जातियों का आंकलन करते हैं?

उत्तर

पारिस्थितिकीविद् गहन रूप से अध्ययन किए गए कीटों के समूह की उष्ण कटिबंधीय व शीतोष्ण जातियों की सांख्यिकीय तुलना कर उनके परिणामों के अनुपात को जंतु व पादपों में अनुमानित कर विश्व की कुल जातियों का आंकलन करते हैं| शोधकर्ता के एक अनुमान के अनुसार, एक अधिक संतुलित तथा वैज्ञानिक रूप से शुद्ध आंकलन वैश्विक जातीय विविधता को लगभग 70 लाख (7 मिलियन) तक मानता है|

3. उष्ण कटिबंध क्षेत्रों में सबसे अधिक स्तर की जाति-समृद्धि क्यों मिलती हैं? इसकी तीन परिकल्पनाएँ दीजिए|

उत्तर

उष्ण कटिबंध क्षेत्रों में सबसे अधिक स्तर की जाति-समृद्धि की तीन परिकल्पनाएँ निम्नलिखित हैं :

• उष्णकटिबंधीय क्षेत्र समशीतोष्ण क्षेत्रों की तुलना में अधिक सौर ऊर्जा प्राप्त करते हैं, जिससे उच्च उत्पादकता और उच्च प्रजाति की विविधता होती है|

• उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में कम मौसमीय परिवर्तन होते हैं और अधिक या कम स्थिर वातावरण होते हैं| यह निकेत विशिष्टीकरण को प्रोत्साहित करता है और इस प्रकार, अधिक जाति समृद्धि को बढ़ावा देता है|

• शीतोष्ण क्षेत्रों में हिमनदन होता रहा है, जबकि उष्णकटिबंधीय क्षेत्र लाखों वर्षों से अपेक्षाकृत अबाधित रहे हैं, जिससे इस क्षेत्र की जाति विविधता में वृद्धि हुई|

4. जातीय-क्षेत्र संबंध में समाश्रयण (रिग्रेशन) की ढलान का क्या महत्त्व है?

उत्तर

जातीय-क्षेत्र संबंध में समाश्रयण (रिग्रेशन) की ढलान का बहुत अधिक महत्त्व है| यह क्षेत्र की जातियों की समृद्धि का अनुमान लगाता है| यह पाया गया है कि छोटे क्षेत्रों में जहाँ प्रजाति-क्षेत्र के संबंध का विश्लेषण किया जाता है, समाश्रयण के ढलान का मूल्य भले ही समान वर्गिकी समूह या क्षेत्र हो| हालांकि, जब एक समान विश्लेषण बड़े क्षेत्रों में किया जाता है, तो समाश्रयण की ढलान बहुत अधिक तेज होती है|

5. किसी भौगोलिक क्षेत्र में जाति क्षति के मुख्य कारण क्या हैं?

उत्तर

किसी भौगोलिक क्षेत्र में जाति क्षति के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं :

• आवासीय क्षति एवं खंडन
• अति दोहन
• जैविक आक्रमण
• सहविलोपन
• अपघटन
• जनसंख्या
• गहन कृषि एवं वानिकी

6. पारितंत्र के कार्यों के लिए जैवविविधता कैसे उपयोगी है?

उत्तर

कम जातीय विविधता वाले पारिस्थितिकी तंत्र की अपेक्षा उच्च जातीय विविधता वाला पारिस्थितिकी तंत्र अधिक स्थिर होता है| इसके अतिरिक्त, उच्च जैव विविधता पारिस्थितिक तंत्र को उत्पादकता में और अधिक स्थिरता लाता है और विदेशी जातियों के आक्रमण और बाढ़ जैसी बाधाओं के प्रति अधिक प्रतिरोधी बनाता है| यदि एक पारिस्थितिकी तंत्र जैव विविधता में समृद्ध है, तो पारिस्थितिक संतुलन प्रभावित नहीं होगा|

जैसा कि हम सभी जानते हैं, खाद्य श्रृंखलाओं के माध्यम से विभिन्न पोषण स्तर जुड़े हुए हैं| यदि किसी भी जीव या किसी भी एक पौष्टिक स्तर के सभी जीवों को मार दिया जाता है, तो यह पूरे खाद्य श्रृंखला को बाधित करेगा|

उदाहरण के लिए, एक खाद्य श्रृंखला में  यदि सभी पौधे मर जाते हैं, तो आहार की कमी के कारण सभी हिरण मर जाएंगे| यदि सभी हिरण मर जाते हैं, तो जल्द ही बाघ भी मर जाएंगे| इस प्रकार, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि यदि एक पारिस्थितिकी तंत्र जतियों में समृद्ध है, तो प्रत्येक खाद्य स्तर पर अन्य आहार विकल्प होंगे, जो किसी भी जीव को उनके खाद्य संसाधन की कमी के कारण मरने नहीं देंगे| इसलिए, जैव विविधता एक पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य और पारिस्थितिक संतुलन को बनाए रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है|

7. पवित्र उपवन क्या हैं? उनकी संरक्षण में क्या भूमिका है?

उत्तर

बहुत सी संस्कृतियों में वनों के लिए अलग भूभाग छोड़े जाते हैं और उनमें सभी पौधों तथा पेड़ों की पूजा की जाती है, जिसे पवित्र उपवन कहते हैं| इस तरह के पवित्र उपवन मेघालय की खासी तथा जयंतिया पहाड़ी, राजस्थान की अरावली, कर्नाटक तथा महाराष्ट्र के पश्चिमी घाट व मध्य प्रदेश की सरगूजा, चंदा व बस्तर क्षेत्र हैं|

पवित्र उपवन संकटग्रस्त पौधों और जानवरों के कई दुर्लभ प्रजातियों के संरक्षण तथा स्थानिकता में मदद करते हैं| आदिवासियों द्वारा इन क्षेत्रों में वनों की कटाई की प्रक्रिया पर प्रतिबंध है| इसलिए, पवित्र उपवन जैव विविधता एक समृद्ध क्षेत्र है|

8. पारितंत्र सेवा के अंतर्गत बाढ़ व भू-अपरदन (सॉइल-इरोजन) नियंत्रण आते हैं| यह किस प्रकार पारितंत्र के जीविय घटकों (बायोटिक कंपोनेंट) द्वारा पूर्ण होते हैं?

उत्तर

एक पारिस्थितिकी तंत्र के जैविक घटक में पौधों और पशुओं जैसे जीवों को शामिल किया जाता है| बाढ़ और भू-अपरदन को नियंत्रित करने में पौधे बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं| पौधों की जड़ें मिट्टी के कणों को एक साथ जकड़ कर रखती हैं, जो तेज हवा या पानी के कारण होने वाले मिट्टी के ऊपरी परत के क्षरण को रोकती है| जड़ें भी मिट्टी को छिद्रयुक्त बना देती हैं, जिससे भूजल अवशोषित होता है और यह बाढ़ को रोकता है| इसलिए, पौधे मिट्टी का क्षरण और प्राकृतिक आपदाओं जैसे बाढ़ और सूखे को रोकने में सक्षम हैं| वे मिट्टी और जैव विविधता की उर्वरता भी बढ़ाते हैं|

9. पादपों की जाति विविधता (22 प्रतिशत) जंतुओं (72 प्रतिशत) की अपेक्षा बहुत कम है| क्या कारण है कि जंतुओं में अधिक विविधता मिलती है?

उत्तर

पृथ्वी पर दर्ज की गई 70 प्रतिशत से अधिक जातियाँ जंतुओं की हैं और केवल 22 प्रतिशत जाति पादप हैं| उनके प्रतिशत में एक बहुत बड़ा अंतर है| इसका कारण यह है कि पादपों की अपेक्षा में जंतुओं ने परिवर्तन हो रहे वातावरण में अपने अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए स्वयं को अनुकूलित किया है|

 उदाहरण के लिए, कीट व अन्य जंतुओं ने अपने शरीर की संरचना को नियंत्रित करने और समन्वय करने के लिए जटिल तंत्रिका तंत्र विकसित किया है| इसके अतिरिक्त, युग्मित उपांग और बाहरी आवरण के साथ दोहराए गए शरीर खंडों ने कीटों को बहुमुखी बना दिया है और उन्हें अन्य जीवन स्वरूपों की तुलना में विभिन्न आवास में जीवित रहने की क्षमता दी है|

10. क्या आप ऐसी स्थिति के बारे में सोच सकते हैं, जहाँ पर हम जानबूझकर किसी जाति को विलुप्त करना चाहते हैं? क्या आप इसे उचित समझते हैं?

उत्तर

हाँ, विभिन्न प्रकार के परजीवी और रोग पैदा करने वाले सूक्ष्मजीवों का हम पृथ्वी से समाप्त करना चाहते हैं| चूंकि ये सूक्ष्म जीव मनुष्यों के लिए हानिकारक हैं, इसलिए वैज्ञानिक उनके विरूद्ध लड़ने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं| टीकाकरण के उपयोग के माध्यम से वैज्ञानिकों ने दुनिया से चेचक के विषाणु को खत्म करने में सक्षम हुए हैं| इससे पता चलता है कि मानव जानबूझकर इन जातियों को विलुप्त करना चाहते हैं| कई अन्य उन्मूलन कार्यक्रम जैसे पोलियो और हेपेटाइटिस बी टीकाकरण का उद्देश्य इन रोगों से उत्पन्न सूक्ष्मजीवों को समाप्त करना है|

Which sports has maximum age fraud in India to watch at Powersportz.tv
Facebook Comments
0 Comments
© 2017 Study Rankers is a registered trademark.