Notes of Class 9th: Ch 1 हमारे आस-पास के पदार्थ विज्ञान

Notes of Science in Hindi for Class 9th: Ch 1 हमारे आस-पास के पदार्थ  विज्ञान 

अध्याय

• पदार्थ- विश्व में प्रत्येक वस्तु जिस सामग्री से बनी है, उसे पदार्थ कहा जाता है और हमारे आस-पास विद्यमान हर वस्तु में पदार्थ है|

पदार्थ के कणों के भौतिक स्वरुप

• पदार्थ कणों से मिलकर बना होता है|
• पदार्थ के कण अत्यंत छोटे होते हैं|

पदार्थ के कणों के अभिलाक्षणिक गुण

• पदार्थ के कणों के बीच रिक्त स्थान होता है|
• पदार्थ के कण निरंतर गतिशील होते हैं अर्थात् उनमें गतिज ऊर्जा होती है|
• पदार्थ के कण एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं|

पदार्थ की अवस्थाएँ

• भौतिक रूप से पदार्थ अपने तीन रूप में होते हैं- ठोस, द्रव और गैस|


ठोस
द्रव
गैस
एक निश्चित आकार होता है|  कोई स्थिर आकार नहीं होता है| गैसों में कोई निश्चित आकार नहीं होता है|
ठोस अवस्था में स्पष्ट सीमाएँ होती हैं| द्रव तरल होते हैं और उनमें बहाव होता है| इनमें कोई निश्चित सीमाएँ नहीं होतीं|
निश्चित या स्थिर आयतन होता है|इनका निश्चित आयतन होता है| कोई निश्चित आयतन नहीं होता है|
इनकी संपीड्यता नगण्य होती है|  द्रवों में बहुत कम संपीडन होता है| गैसों में संपीडन अधिक होता है|

पदार्थ के तीनों अवस्थाओं के कणों का योजनाबद्ध आवर्धित चित्रण नीचे किया गया है-


पदार्थ की अवस्था में परिवर्तन

• जल पदार्थ की तीनों अवस्थाओं में रह सकता है:

ठोस - बर्फ
द्रव - पानी
गैस - वाष्प

गलनांक- जिस तापमान पर (वायुमंडलीय दाब पर) कोई ठोस पिघलकर द्रव बनता है, वह इसका गलनांक कहलाता है| बर्फ का गलनांक 273.16 K है|

संगलन की प्रसुप्त ऊष्मा- वायुमंडलीय दाब पर 1 kg ठोस को उसके गलनांक पर द्रव में बदलने के लिए जितनी ऊष्मीय ऊर्जा की आवश्यकता होती है, उसे संगलन की गुप्त ऊष्मा कहते हैं| 

क्वथनांक- वायुमंडलीय दाब पर वह तापमान जिस पर द्रव उबालने लगता है, इसका क्वथनांक कहलाता है| जल का क्वथनांक = 373 K

वाष्पीकरण की गुप्त ऊष्मा- वायुमंडलीय दाब पर 1 kg द्रव को उसके क्वथनांक पर वाष्प में बदलने के लिए जितनी ऊष्मीय ऊर्जा की आवश्यकता होती है, उसे वाष्पीकरण की गुप्त ऊष्मा कहते हैं|

ऊर्ध्वपातन- कुछ ऐसे पदार्थ हैं, जो द्रव अवस्था में परिवर्तित हुए बिना ठोस अवस्था से सीधे गैस में ओर वापस ठोस में बदल जाते हैं| इस प्रक्रिया को उर्ध्वपातन कहते हैं|

• वाष्पीकरण- एक ऐसी सतही प्रक्रिया जिसमें द्रव पदार्थों में सतह के कण क्वथनांक से नीचे किसी भी तापमान पर वाष्प में बदलने लगते हैं| ऐसी प्रक्रिया को वाष्पीकरण कहते हैं|

वाष्पीकरण को प्रभावित करने वाले कारक:

सतही क्षेत्रफल- सतही क्षेत्रफल बढ़ाने से वाष्पीकरण की दर बढ़ जाती है|

तापमान में वृद्धि- तापमान बढ़ाने से वाष्पीकरण की दर बढ़ जाती है क्योंकि पदार्थ के कणों की गतिज ऊर्जा बढ़ जाती है|

आर्द्रता- यदि हवा में आर्द्रता है तो वाष्पीकरण की दर घट जाती है|

• वायु की गति- अगर वायु की गति बढ़ जाती है तो वाष्पीकरण की दर भी बढ़ जाती है| 

वाष्पीकरण के कारण शीतलता होती है

वाष्पीकरण प्रक्रिया के दौरान, लुप्त हुई ऊर्जा को पुनः प्राप्त करने के लिए द्रव के कण अपने आस-पास के वातावरण से ऊर्जा अवशोषित कर लेते हैं| इस अवशोषण के कारण वातावरण शीतल हो जाता है|

GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo