घर की याद - पठन सामग्री और सार NCERT Class 11th Hindi

पठन सामग्री, अतिरिक्त प्रश्न और उत्तर और सार - पाठ 15 - घर की याद (Ghar ki Yaad) आरोह भाग - 1 NCERT Class 11th Hindi Notes

सारांश

घर की याद कविता में घर के मर्म का उद्घाटन है| कवि को जेल-प्रवास के दौरान घर से विस्थापन की पीड़ा सालती है| कवि के स्मृति-संसार में उसके परिजन एक-एक कर शामिल होते चले जाते हैं| घर की अवधारणा की सार्थक और मार्मिक याद कविता की केन्द्रीय संवेदना है|\

कवि 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के कारण जेल में बंद है| बरसात के दिनों में कवि अपने घर-परिवार को याद करता है| उसे खुशियों से भरे अपने घर की याद आती है| कवि के चार भाई और चार बहनें हैं जिनसे पूरा परिवार भरा-पूरा लगता है| एक विवाहिता बहन है जो मायके आई हुई है| परिवार के सभी सदस्य आपस में प्रेम के कारण एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं| जेल में बंद कवि अपने शोकाकुल परिवार के बारे में सोचकर दुखी है| कवि को अपनी माँ की याद आ रही है जो अनपढ़ होने के कारण पत्र नहीं लिख सकती| वे अपने पिता को भी याद करते हैं जो बूढ़े होने के बाद भी मन से युवा हैं| वे एक जिंदादिल तथा हँसमुख व्यक्ति हैं| मौत भी उन्हें डरा नहीं सकती| उनके पिता धार्मिक हैं जो नियमित रूप से गीता का पाठ करते हैं| अपने बेटे की याद करके उनकी आँखें नम हो जाती हैं| कवि अपने पिता को याद करके भावुक हो उठता है| कवि पिता के पाँचवे बेटे हैं जिस पर उनके पिता को नाज था, लेकिन दुर्भाग्यवश कवि जेल में बंद हैं| ऐसे कठिन समय में कवि की माँ ही है जो पिताजी को ढांढ़स बँधा रही होगी| कवि के माता-पिता दोनों देशभक्ति की भावना से प्रेरित हैं| उनकी माँ कहती हैं कि यदि वह ऐसा न करता तो हमें लज्जित होना पड़ता| उनके पिता भी इस परिस्थिति में अपना धैर्य नहीं खोते|
 जेल में बंद कवि ‘सावन’ से आग्रह करते हैं कि वो उनके परिवार तक उनकी सलामती का संदेश पहुँचा दे| उनके परिवार को उनके दुखी होने की बात का पता न चले| जेल में उन्हें नींद नहीं आती है तथा घर से बिछड़ने का वियोग उनके मन को व्यथित करता है| लेकिन वे अपने पिता को अपनी वास्तविक स्थिति बताकर दुखी नहीं करना चाहते|  कवि सावन से कहते हैं कि वह उनके पिता को उनके आनंद का समाचार दे जिससे कि उन्हें कवि की चिंता न हो|

कवि-परिचय

भवानी प्रसाद मिश्र

जन्म- सन् 1913, टिगरिया गाँव, होशंगाबाद (म.प्र.) में|

प्रमुख रचनाएँ- सतपुड़ा के जंगल, सन्नाटा, गीतफरोश, चकित है दुख, बुनी हुई रस्सी, खुशबू के शिलालेख, अनाम तुम आते हो, इदं न मम्|

प्रमुख सम्मान- साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन का शिखर सम्मान, दिल्ली प्रशासन का ग़ालिब पुरस्कार एवं पद्मश्री|

मृत्यु - सन् 1985 में|

सहज लेखन और सहज व्यक्तित्व का नाम है भवानी प्रसाद मिश्र| कविता और साहित्य के साथ-साथ राष्ट्रीय आंदोलन में जिन कवियों की सक्रिय भागीदारी थी उनमें ये प्रमुख हैं| भवानी प्रसाद की कविता हिंदी की सहज लय की कविता है| इस सहजता का संबंध गाँधी के चरखे की लय से जुड़ता है इसीलिए उन्हें कविता का गाँधी भी कहा गया है|

भवानी प्रसाद मिश्र जिस किसी विषय को उठाते हैं उसे घरेलू बना लेते हैं- आँगन का पौधा, शाम और दूर दिखती पहाड़ की नीली चोटी भी जैसे परिवार का एक अंग हो जाती है| नई कविता के दौर के कवियों में मिश्र जी के यहाँ व्यंग्य और क्षोभ भरपूर है किंतु वह प्रतिक्रियापरक न होकर सृजनात्मक है|

कठिन शब्दों के अर्थ

• नजर में तिर रहा है- आँखों में तैर रहा है
• पूर है जो- वह घर जो परिपूर्ण है यानी खुशियों से भरपूरा है
• परिताप- अत्यधिक दुख
• नवनीत- मक्खन
• हेटे- गौण, हीन
• लीक- परंपरा

NCERT Solutions of पाठ 15 - घर की याद

Watch age fraud in sports in India

GET OUR ANDROID APP

Get Offline Ncert Books, Ebooks and Videos Ask your doubts from our experts Get Ebooks for every chapter Play quiz while you study

Download our app for FREE

Study Rankers Android App Learn more

Study Rankers App Promo