NCERT Solutions for Class 7th: पाठ - 9 विश्वेश्वेरैया (व्यक्तित्व) हिंदी

 NCERT Solutions for Class 7th: पाठ - 9 विश्वेश्वेरैया (व्यक्तित्व) हिंदी दूर्वा भाग - II

पृष्ठ संख्या: 55

अभ्यास

पाठ से

क. अपने घर के बरामदे में खड़े होकर छः वर्षीय विश्वेश्वेरैया ने क्या देखा?

उत्तर

अपने घर के बरामदे में खड़े होकर छः वर्षीय विश्वेश्वेरैया ने देखा कि बारिश होने के कारण पेड़ धूल गए हैं जिससे वे साफ और सुंदर दिखाई दे रहे हैं। पत्तियों और टहनियों से पानी की बूँदें टप-टप गिर रही थीं। खेत में हरे-भरे धान लहलहा रहे थे। निकट की नाली का पानी उमड़-घुमड़ रहा था। उसमें भंवर भी उठ रहे थे। उसने एक जलप्रपात का रूप धारण कर लिया था। उसमें इतनी शक्ति थी कि वह एक बहुत ही बड़े पत्थर को अपने साथ बहा कर ले जा रहा था। उसने हवा और सूर्य की असीम शक्ति को भी देखा। उसने थोड़ी दूर पर निर्भीकता से मूसलाधार बारिश में खड़े एक आकृति को देखा जो कि कमजोर और भूखी लग रही थी। उसके बच्चे स्कूल नहीं जाते थे। यह सब देखने के बाद प्रकृति और गरीबी के कारण जानने के बारे में उन्होंने बड़ी गंभीरता से प्रयास किया।

ख. तुम्हें विश्वेश्वेरैया की कौन सी बात सबसे अच्छी लगी? क्यों?

उत्तर

मुझे विश्वेश्वेरैया की जिज्ञासु प्रवृति सबसे अच्छी लगी क्योंकि जानने की इच्छा का होना हमारे अंदर नित्य-प्रतिदिन बदलाव लाता है। अगर हम किसी चीज़ को अच्छे से जानेंगे तो हम उसका बेहतर उपयोग करने के साथ उसे और बेहतर बनाने में सहयोग भी कर सकते हैं। साथ ही जानने की भावना हमें संसार में हो रहे बदलावों से भी जोड़े रखता है।

ग. विश्वेश्वेरैया के मन में कौन-कौन से सवाल उठते थे?

उत्तर

 विश्वेश्वेरैया के मन में  प्रकृति और गरीबी के बारे में अनेक सवाल उठते थे। ऊर्जा के कौन से प्रचलित स्रोत हैं? कैसे इस ऊर्जा को पकड़ कर इस्तेमाल में लाया जा सकता है? आखिर इतने लोग गरीब क्यों हैं? नौकरानी फटी साड़ी क्यों पहनती है। वह झोपड़ी में क्यों रहती है? क्या उसे अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहिए?

2. सवाल

विश्वेश्वरैया अपने मन में उठे सवालों का जवाब अपने अध्यापकों और बड़ों से जानने की कोशिश करते थे। क्या तुम अध्यापकों से पाठ्य पुस्तकों के सवालों के अतिरिक्त भी कुछ सवाल पूछते हो? कुछ सवालों को लिखो जो तुमने अपने अध्यापकों से पूछे हों।

उत्तर

छात्र अपने अनुसार उत्तर दें। उदाहरण के लिए निम्नलिखित प्रश्न दिए गए हैं-
• बादलों में कौन रहता है?
• बादलों से बारिश क्यों होती है?
• बारिश कौन करवाता है?

3. अनुभव और विचार

1. तुम्हें सर्दी-गर्मी के मौसम में अपने घर के आसपास क्या-क्या दिखाई देता है?

उत्तर

सर्दी के मौसम में लोग गर्म कपड़े से ढँके होते हैं। सुबह और शाम में कोहरा छाया रहता है। दोपहर में लोग धूप सेकते हैं। धूप भी मद्धिम रहती है। ठंडी हवाएँ चलती हैं। रात में लोग शरीर को गर्म रखने के लिए अलाव जलाते हैं।
गर्मी के मौसम में शरीर से पसीना निकलता है। लोग शीतल पेय-पदार्थ लेना पसंद करते हैं। दोपहर में लू(गर्म हवाएँ) चलती हैं। पेड़ों पर आम लगते हैं। घरों में दिन-रात पंखा, ए.सी या कूलर चलते रहते हैं।

2. तुमने पाठ में पढ़ा कि एक बूढी महिला ताड़पत्र से बनी छतरी लिए खड़ी थी। पता करो कि ताड़पत्र से और क्या-क्या बनाया जाता है?

उत्तर

पुराने समय में ताड़पत्र पर किताबें लिखीं जातीं थीं। आज के समय में इससे टोकरियाँ, डलिया, चटाई आदि बनाई जाती है।

(ग) विश्वेश्वरैया ने बचपन में रामायण, महाभारत, पंचतंत्र आदि की कहानियाँ सुनी थीं। तुमने पाठ्यपुस्तक के अलावा कौन-कौन सी कहानियाँ सुनी हैं? किसी कहानी के बारे में बताओ।

उत्तर

बहुत समय पहले बिजली और तूफान धरती पर मनुष्यों के बीच रहा करते थे। राजा ने उन्हें मनुष्यों की बस्ती से दूर रखा था।

बिजली तूफान की बेटी थी। जब कभी किसी बात पर बिजली नाराज हो उठती, वह तड़प कर किसी के घर पर गिरती और उसे जला देती या किसी पेड़ को राख कर देती, या खेत की फसल नष्ट कर देती। मनुष्य को भी वह अपनी आग से जला देती थी।

जब-जब बिजली ऐसा करती, उसके पिता तूफान गरज-गरजकर उसे रोकने की चेष्टा करते। किंतु बिजली बड़ी ढीठ थी। वह पिता का कहना बिलकुल नहीं मानती थी। यहाँ तक कि तूफान का लगातार गरजना मनुष्यों के लिए सिरदर्द हो उठा। उसने जाकर राजा से इसकी शिकायत की।

राजा को उसकी शिकायत वाजिब लगी। उन्होंने तूफान और उसकी बेटी बिजली को तुरंत शहर छोड़ देने की आज्ञा दी और बहुत दूर जंगलों में जाकर रहने को कहा।

किंतु इससे भी समस्या का समाधान नहीं हुआ। बिजली जब नाराज होती, जंगल के पेड़ जला डालती। कभी-कभी पास के खेतों का भी नुकसान कर डालती। मनुष्य को यह भी सहन न हुआ। उसने फिर राजा से शिकायत की।

राजा बेहद नाराज हो उठा। उसने तूफान और बिजली को धरती से निकाल दिया और उन्हें आकाश में रहने की आज्ञा दी, जहाँ से वे मनुष्य का उतना नुकसान नहीं कर सकते थे जितना की धरती पर रहकर करते थे।
क्रोध का फल बुरा होता है।

(घ) तुम्हारे मन में भी अनेक सवाल उठे होंगे जिनके जवाब तुम्हें नहीं मिले। ऐसे ही कुछ सवालों की सूची बनाओ।

उत्तर

छात्र अपने अनुसार उत्तर दें। उदाहरण के लिए निम्नलिखित प्रश्न दिए गए हैं-
पौधे धरती पर ही क्यों उगते हैं?
अंतरिक्ष में साँस कब ले सकेंगे?
स्कूल में वर्दी (यूनिफार्म) क्यों होती है?

(ङ) तुम्हारे विचार से गरीबी के क्या कारण हैं?

उत्तर

अशिक्षा गरीबी का मुख्य कारण है। लोग अशिक्षित होने के वजह से लोगों को ढंग की नौकरी नहीं मिलती जिससे उनकी आमदनी कम रहती है। उनका जीवन स्तर निम्न रहता है और वे अपनी जरूरतों को पूरा नहीं कर पाते।

पृष्ठ संख्या: 56

4. वाक्य बनाओ

नीचे पाठ में से चुनकर कुछ शब्द दिए गए हैं। तम इनका प्रयोग अपने ढंग के वाक्य बनाने में करो।

(क) हरे-भरे
► सड़क पर दोनों तरफ हरे-भरे पेड़ लगे हैं।

(ख) उमड़-घुमड़
► आसमान में बादल उमड़-घुमड़ कर आए।

(ग) एक-दूसरे
► वे एक-दूसरे का साथ हमेशा देते हैं।

(घ) धीरे-धीरे
► मैं और धीरे-धीरे नहीं चल सकता।

(ड़) टप-टप
► बारिश होने से टप-टप की आवाज आ रही है।

(च) फटी-पुरानी
► मोहन की किताबें फटी-पुरानी हैं।

5. इन वाक्यों को पढ़ो और इन्हें प्रश्नवाचक वाक्यों में बदलो

क. ज्ञान असीमित है।
► क्या ज्ञान असीमित है?

ख. आकाश में अँधेरा छाया हुआ था।
► क्या आकाश में अँधेरा छाया हुआ था?

ग. गड्ढे और नालियाँ पानी से भर गईं
► क्या गड्ढे और नालियाँ पानी से भर गईं?

घ. उसने एक जल-प्रपात का रूप धारण कर लिया।
► क्या उसने एक जल-प्रपात का रूप धारण कर लिया?

ड़. राष्ट्रीयता की चिंगारी जल उठी थी।
► क्या राष्ट्रीयता की चिंगारी जल उठी थी?

च. मैं काफी धन कमा लूँगा।
► क्या मैं काफी धन कमा लूँगा।

पाठ में वापिस जाएँ

Liked NCERT Solutions and Notes, Share this with your friends::
Facebook Comments
0 Comments
© 2017 Study Rankers is a registered trademark.