पाठ 5 - नाना साहब की पुत्री देवी मैना को भस्म कर दिया गया अन्य परीक्षापयोगी प्रश्न और उत्तर। क्षितिज भाग - I

Extra Questions and Answer from Chapter 1 Nana Sahab ki putri devi Maina ko bahsm kar diya gya Kshitiz Bhaag I

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए -

1. कानपुर में भीषण हत्याकाण्ड करने के बाद अंग्रेज़ों का सैनिक दल बिठूर की ओर गया। बिठूर में नाना साहब का राजमहल लूट लिया गया; पर उसमें बहुत थोड़ी संपत्ति अंग्रेज़ों के हाथ लगी। इसके बाद अंग्रेज़ों ने तोप के गोलों से नाना साहब का महल भस्म कर देने का निश्चय किया। सैनिक दल ने जब वहाँ तोपें लगाईं उस समय महल के बरामदे में एक अत्यंत सुन्दर बालिका आकर खड़ी हो गई। उसे देखकर अंग्रेज सेनापति को बड़ा आश्चर्य हुआ, क्योंकि महल लूटने के समय वह बालिका वहाँ कहीं दिखाई न दी थी।

(क) नाना साहब का महल कहाँ था?
(ख) अंग्रेज़ों ने महल तोप के गोलों से भस्म करने का निश्चय क्यों किया?
(ग) अंग्रेज़ सेनापति को महल के बरामदे में लड़की दिखने से आश्चर्य क्यों हुआ?

उत्तर

(क) नाना साहब का महल बिठूर में था।
(ख) अंग्रेज़ों ने महल तोप के गोलों से भस्म करने का निश्चय इसलिए किया क्योंकि उन्हें अपनी सरकार से आदेश था की नाना के सभी निशानियों को मिटा दे।
(ग) अंग्रेज़ सेनापति को महल के बरामदे में लड़की दिखने से आश्चर्य इसलिए हुआ क्योंकि महल को लूटते वक़्त वह लड़की उन्हें कहीं नहीं दिखाई दी।

2. उस समय लण्डन के सुप्रिसद्ध 'टाइम्स' पत्र में छटी सितम्बर को एक लेख में लिखा गया 'बड़े दुःख का विषय है, कि भारत सरकार आज तक उस दुर्दान्त नाना साहब को नहीं पकड़ सकी, जिस पर समस्त अंग्रेज जाति का भीषण क्रोध है। जब तक हम लोगों के शरीर में रक्त रहेगा, तब तक कानपुर में अंग्रेजों के हत्याकाण्ड का बदला लेना हम लोग न भूलेंगे। उस दिन पार्लियामेंट की 'हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स' सभा में सर टामस 'हे' की एक रिपोर्ट पर बड़ी हँसी हुई, जिसमे सर 'हे' ने नाना की कन्या पर दया दिखाने की बात लिखी थी।

(क) 'टाइम्स' पत्र के अनुसार दुःख का विषय क्या था?
(ख) 'टाइम्स' पत्र में छपे लेख का क्या मत था?
(ग) सर टॉमस 'हे' के रिपोर्ट पर हँसी क्यों हुई?

उत्तर

(क) भारत सरकार नाना साहब को पकड़ने में असफल रही जिसपर अंग्रज़ों के हत्याकाण्ड का आरोप था। यह 'टाइम्स' पत्र के अनुसार दुःख विषय था।
(ख) 'टाइम्स' पत्र में छपे लेख का मत था कि नाना के पुत्र, कन्या तथा अन्य कोई भी सम्बन्धी जहाँ भी मिले, मार डाला जाए।
(ग) सर टॉमस 'हे' ने अपने रिपोर्ट में नाना साहब, जिसपर समस्त अंग्रेज़ जाति का क्रोध था उसकी कन्या पर दया दिखाने की बात कर रहे थे।

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लिखिए -

1. नाना साहब अपनी पुत्री मैना को अपने साथ क्यों नहीं ले जा सके?

उत्तर

नाना साहब कानपुर में अंग्रेज़ों के सामने असफल रहे जिसके वजह से उन्हें जल्दी में भागना पड़ा इस कारण वे अपनी पुत्री मैना को अपने साथ नहीं ले जा सके।

2. मैना 'हे' को कैसे जानती थी? उसने 'हे' से क्या मदद माँगी? पाठ के आधार पर लिखिए।

उत्तर

'हे' की पुत्री मेरी मैना की सहेली थी। पहले 'हे' नाना साहब से मिलने उनके महल जाया करते थे और मैना को भी अपनी पुत्री समान प्यार करते थे। इस प्रकार मैना 'हे' को जानती थी। उसने 'हे' से राजमहल के रक्षा की माँग की।

3. सेनापति 'हे' ने मदद करने में असमर्थता के पीछे क्या वजह दिया?

उत्तर

सेनापति 'हे' ने मदद करने में असमर्थता के पीछे नाना साहब के प्रति अंग्रेज सरकार के कड़े रुख का वजह दिया। उन्होंने कहा कि वह जिस सरकार के नौकर हैं, उसकी आज्ञा वे नहीं टाल सकते।

4. सेनापति 'हे' ने जनरल आउटरम से क्या निवेदन किया?

उत्तर

सेनापति 'हे' ने जनरल आउटरम से नाना साहब के महल को किसी तरह बचाने का निवेदन किया।

5. पाठ के आधार पर जनरल आउटरम के चरित्र का विश्लेषण कीजिये।

उत्तर

जनरल आउटरम अंग्रेजी सेना का जनरल था। वह क्रूर, निर्दयी और पत्थर हृदय व्यक्ति था। उसने मैना को राजमहल के अवशेषों पर से रोते हुए देखा और हथकड़ी डालकर गिरफ्तार किया और कानपुर के किले में कैद कर दिया। उसने मैना की की आखिरी इच्छा भी पूरी नहीं की और उसी किले में मैना को आग जलाकर भस्म कर दिया गया।

6. मैना ने जनरल आउटरम से क्या प्रार्थना की?

उत्तर

मैना ने जनरल आउटरम से कुछ वक़्त और देने की प्रार्थना की ताकि वह राजमहल के अवशेषों पर जी भर कर रो ले।

7. मैना सैनिकों के प्रश्न का उत्तर क्यों नहीं दे रही थी?

उत्तर

मैना महल के टूट जाने से दुःख में डूबी थी। वह अपने ख्यालों में खोयी थी। उसे अपने हालात का आभास ना था और ना ही कोई डर था इस कारण वह सैनिकों के प्रश्न का उत्तर नहीं दे रही थी।

8. ब्रिटिश पार्लियामेंट में सेनापति 'हे' की किस बात पर हँसी हुई?

उत्तर

ब्रिटिश पार्लियामेंट में सेनापति 'हे के रिपोर्ट में लिखी हुई उस बात पर हँसी हुई जिसमे उन्होंने नाना की कन्या मैना पर दया दिखाने की बात कही थी।

9. अंग्रेज़ों का नाना साहब के प्रति इतना क्रूर रवैया क्यों था? पाठ के आधार पर लिखिए।

उत्तर

नाना साहब अंग्रेज़ों के कट्टर विरोधी थे। वे कानपुर में हुए अंग्रेज़ों के विरुद्ध आंदोलन के शीर्ष नेता थे। कानपुर में हुए अंग्रेज़ों के हत्याकाण्ड को उन्होंने करवाया था। इस कारण अंग्रेज़ों का नाना साहब के प्रति इतना क्रूर रवैया था।

10. महाराष्ट्रीय इतिहासवेत्ता महादेव चिटनवीस के पत्र में क्या छपा?

उत्तर

महाराष्ट्रीय इतिहासवेत्ता महादेव चिटनवीस के पत्र में छपा कि कल कानपुर के किले में एक भीषण हत्याकाण्ड हो गया। नाना साहब की एकमात्र कन्या मैना धधकती हुई आग में जलाकर भस्म कर दी गयी।


Watch age fraud in sports in India
Facebook Comments
0 Comments
© 2019 Study Rankers is a registered trademark.

Watch animated chapter videos of all subjects and read Free e-book Notes on studyrankers app. Just at Rs. 1499 699 for a year. Offer till 31st May.GRAB NOW !!

x