NCERT Solutions for Class 9th: Ch 6 ऊतक विज्ञान

NCERT Solutions of Science in Hindi for Class 9th: Ch 6 ऊतक विज्ञान 

प्रश्न 

पृष्ठ संख्या 77

1. ऊतक क्या है?

उत्तर

ऊतक कोशिकाओं का वह समूह है, जिनकी संरचना एक समान होती है तथा जो विशिष्ट कार्य को अतिदक्षता पूर्वक संपन्न करने के लिए एक साथ संगठित होते हैं|

2. बहुकोशिक जीवों में ऊतकों का क्या उपयोग है?

उत्तर

बहुकोशिक जीवों में, विभिन्न प्रकार के ऊतक विभिन्न कार्य करते हैं| चूँकि कोशिकाओं का एक विशेष समूह केवल एक ही विशेष कार्य को संपन्न करता है, इसलिए वे उस कार्य को दक्षतापूर्वक करते हैं| इस प्रकार बहुकोशिक जीवों में श्रम-विभाजन होता है|

पृष्ठ संख्या 81

1. प्रकाश संश्लेषण के लिए किस गैस की आवश्यकता होती है?

उत्तर

प्रकाश संश्लेषण के लिए कार्बन डाइऑक्साइड गैस की आवश्यकता होती है|

2. पौधों में वाष्पोत्सर्जन के कार्यों का उल्लेख करें|

उत्तर

पौधों में वाष्पोत्सर्जन की क्रिया स्टोमेटा द्वारा संपन्न होती है| यह पौधों में मिट्टी से पानी के अवशोषण में मदद करता है|

पृष्ठ संख्या 83

1. सरल ऊतकों के कितने प्रकार हैं?

उत्तर

सरल स्थायी ऊतक तीन प्रकार के होते हैं-
• पैरेन्काइमा ऊतक
• कॉलेन्काइमा ऊतक
• स्क्लेरेन्काइमा ऊतक

पैरेन्काइमा ऊतक दो प्रकार के होते हैं:

क्लोरेन्काइमा ऊतक (हरित ऊतक)
ऐरेन्काइमा ऊतक

2. प्ररोह का शीर्षस्थ विभज्योतक कहाँ पाया जाता है?

उत्तर

प्ररोह का शीर्षस्थ विभज्योतक जड़ों एवं तनों की वृद्धि वाले भाग में पाया जाता है|

3. नारियल का रेशा किस ऊतक का बना होता है?

उत्तर

नारियल का रेशा स्क्लेरेन्काइमा ऊतक का बना होता है|

4. फ़्लोएम के संघटक कौन-कौन से हैं?

उत्तर

फ़्लोएम के संघटक निम्नलिखित हैं :
• चालनी नलिका
फ़्लोएम पैरेन्काइमा
फ़्लोएम रेशा

पृष्ठ संख्या 87

1. उस ऊतक का नाम बताएँ जो हमारे शरीर में गति के लिए उत्तरदायी है|

उत्तर

पेशीय ऊतक|

2. न्यूरॉन देखने में कैसा लगता है?

उत्तर

न्यूरॉन देखने में पूँछ सहित तारे के आकार का ऊतक लगता है|

3. हृदय पेशी के तीन लक्षणों को बताएँ|

उत्तर

हृदय पेशी के तीन लक्षण निम्नलिखित हैं :

हृदय पेशियाँ अनैच्छिक पेशियाँ हैं जो जीवन भर लयबद्ध होकर प्रसार एवं संकुचन करती रहती हैं|
• हृदय की पेशी कोशिकाएँ बेलनाकार, शाखाओं वाली  होती हैं |
• हृदय पेशी कोशिकाएँ एक-केंद्रकीय होती हैं|

4. एरिओलर ऊतक के क्या कार्य हैं?

उत्तर

एरिओलर ऊतक के कार्य :
• यह आंतरिक अंगों को सहारा प्रदान करता है|
• यह अंगों के भीतर खाली जगह को भरता है और ऊतकों की मरम्मत में सहायता करता है|

पृष्ठ संख्या 88

अभ्यास

1. ऊतक को परिभाषित करें|

उत्तर

ऊतक कोशिकाओं का वह समूह है, जिनकी संरचना एक समान होती है तथा जो विशिष्ट कार्य को अतिदक्षता पूर्वक संपन्न करने के लिए एक साथ संगठित होते हैं|

2. कितने प्रकार के तत्व मिलकर ज़ाइलम ऊतक का निर्माण करते हैं? उनके नाम बताएँ|

उत्तर

ज़ाइलम ऊतक का निर्माण चार प्रकार के तत्वों से होता है :

• ट्रैकीड् (वाहिनिका)
• वाहिका
• ज़ाइलम पैरेन्काइमा
• ज़ाइलम फाइबर

3. पौधों में सरल ऊतक जटिल ऊतक से किस प्रकार भिन्न होते हैं?

उत्तर

सरल ऊतकजटिल ऊतक
इन ऊतकों में केवल एक प्रकार की कोशिकाएँ होती हैं|ये ऊतक एक से अधिक प्रकार की कोशिकाओं से बने होते हैं|
इनके कोशिकाओं की संरचना लगभग एक समान होती हैं तथा वे एक समान कार्य करते हैं|विभिन्न प्रकार की कोशिकाएँ अलग-अलग कार्य करते हैं| उदाहरण के लिए- ट्रैकीड् के द्वारा पानी का संवहन होता है जबकि पैरेन्काइमा भोजन का संग्रह करता है| 
सरल ऊतक तीन प्रकार के हैं- पैरेन्काइमा ऊतक, कॉलेन्काइमा ऊतक, स्क्लेरेन्काइमा ऊतक|पौधों में जटिल ऊतक दो प्रकार के होते हैं- ज़ाइलम तथा फ़्लोएम|

4. कोशिका भित्ति के आधार पर पैरेन्काइमा, कॉलेन्काइमा, स्क्लेरेन्काइमा के बीच भेद स्पष्ट करें|

उत्तर

पैरेन्काइमा
कॉलेन्काइमा
स्क्लेरेन्काइमा
यह पतली कोशिका भित्ति वाली सरल कोशिकाओं का बना होता है तथा इस प्रकार के ऊतक की कोशिकाओं के मध्य काफी रिक्त स्थान पाया जाता है| इस ऊतक की कोशिकाएँ जीवित, लंबी और अनियमित ढंग से कोनों से मोटी होती है तथा कोशिकाओं के बीच बहुत कम स्थान होता है||इनकी कोशिका भित्तियाँ प्रायः इतनी मोटी होती हैं कि कोशिका के भीतर कोई आंतरिक स्थान नहीं होता है|
इस ऊतक में कोशिका भित्ति सेल्यूलोज की बनी होती है|कोशिका भित्ति के प्रमुख घटक पेक्टिन तथा हेमिसेल्यूलोज हैं|इस ऊतक की भित्ति में कोशिकाओं को दृढ़ बनाने के लिए लिग्निन की अतिरिक्त परत पायी जाती है| 

5. रंध्र के क्या कार्य हैं?

उत्तर

रंध्र के कार्य :
• ये कोशिकाएँ वायुमंडल से गैसों का आदान-प्रदान करते हैं|
• वाष्पोत्सर्जन की क्रिया भी रंध्र के द्वारा होती है|

6. तीन प्रकार के पेशीय रेशों में चित्र बनाकर अंतर स्पष्ट करें|

उत्तर

तीन प्रकार के पेशीय रेशे हैं
a) रेखित पेशी
(b) चिकनी पेशी तथा
(c) कार्डिक (हृदयक पेशी)|

7. कार्डिक (हृदयक) पेशी का विशेष कार्य क्या है?

उत्तर

हृदय पेशियों के विशिष्ट कार्य जीवन भर लयबद्ध होकर हृदय के प्रसार एवं संकुचन को नियंत्रित करना है|

8. रेखित, अरेखित तथा कार्डिक (हृदयक) पेशियों में शरीर में स्थित कार्य और स्थान के आधार पर अंतर स्पष्ट करें|

उत्तर

कार्य के आधार पर :

रेखित पेशी 
अरेखित पेशी 
कार्डिक (हृदयक) पेशी
ये अधिकतर हड्डियों से जुड़ी होती हैं तथा शारीरिक गति में सहायक होती हैं| अरेखित पेशियाँ आहारनली में भोजन का प्रवाह या रक्त नालिका का प्रसार व संकुचन को नियंत्रित करती हैं|हृदयक पेशियाँ जीवन भर लयबद्ध होकर हृदय के प्रसार एवं संकुचन को नियंत्रित करती हैं|

स्थान के आधार पर :

रेखित पेशी
अरेखित पेशी
कार्डिक (हृदयक) पेशी
ये  पेशियाँ शरीर के अंगों, जैसे- हाथ, पैर, जीभ आदि में उपस्थित होते हैं|
ये भोजन की आहारनली, रक्तनालिका, आँख की पलक, मूत्रवाहिनी और फेफड़ों की श्वसनी में पाया जाता है|हृदयक पेशियाँ हृदय में स्थित होते हैं|

9. न्यूरॉन का एक चिन्हित चित्र बनाएँ|

उत्तर

10. निम्नलिखित के नाम लिखें :

(a) ऊतक जो मुँह के भीतरी अस्तर का निर्माण करता है |
उत्तर
एपिथीलियम ऊतक

(b) ऊतक जो मनुष्य में पेशियों को अस्थि से जोड़ता है |
उत्तर
कंडरा

(c) ऊतक जो पौधों में भोजन का संवहन करता है |
उत्तर
फ़्लोएम

(d) ऊतक जो हमारे शरीर में वसा का संचय करता है |
उत्तर
वसामय ऊतक

(e) तरल अधात्री सहित संयोजी ऊतक |
उत्तर
रक्त 

(f) मस्तिष्क में स्थित ऊतक |
उत्तर
तंत्रिका ऊतक

11. निम्नलिखित में ऊतक के प्रकार की पहचान करें :
त्वचा, पौधे का वल्क, अस्थि, वृक्कीय नलिका अस्तर, संवहन बंडल |

उत्तर

त्वचा- शल्की एपिथीलियम ऊतक
पौधे का वल्क- सरल स्थायी ऊतक
अस्थि- संयोजी ऊतक
वृक्कीय नलिका अस्तर- घनाकार एपिथीलियम ऊतक 
संवहन बंडल- जटिल स्थायी ऊतक

12. पैरेन्काइमा ऊतक किस क्षेत्र में स्थित होते हैं?

उत्तर

पत्तियाँ, फल और फूल ऐसे क्षेत्र हैं जहां पैरेन्काइमा ऊतक स्थित होते हैं|

13. पौधों में एपीडर्मिस की क्या भूमिका है?

उत्तर

पौधों की बाह्य सतह पर उपस्थित एपीडर्मिस की निम्नलिखित भूमिका है :

• यह पौधों की प्रतिरोधी ऊतक है|
• यह जल हानि के विरूद्ध यांत्रिक आघात तथा परजीवी कवक के प्रवेश से पौधों की रक्षा करती है|
• यह स्टोमेटा के द्वारा गैसों के आदान-प्रदान में सहायता करता है|

14. छाल (कॉर्क) किस प्रकार सुरक्षा ऊतक के रूप में कार्य करता है?

उत्तर

एक पेड़ की बाह्य सुरक्षात्मक परत को छाल (कॉर्क) कहा जाता है| इन छालों की कोशिकाएँ मृत होती हैं| इस प्रकार यह पौधों की यांत्रिक आघात, अत्यधिक तापमान से सुरक्षा करता है| यह वाष्पीकरण द्वारा होने वाले पानी की हानि को रोकता है|

15. निम्न दी गई तालिका को पूर्ण करें
उत्तर

Facebook Comments
0 Comments
© 2017 Study Rankers is a registered trademark.